अब अस्पताल में मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे कोरोना के मरीज, योगी सरकार का आदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के डीजी मेडिकल केके गुप्ता ने कोरोना के पेशेंट्स को मोबाइल साथ ले जाने पर रोक लगाने का आदेश दिया है. इसके लिए प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज और संबंधित अधिकारियों को पत्र भी भेजा गया है. बता दें कि केके गुप्ता ही वो अधिकारी हैं, जिन्होंने राज्य में पीपीई किट में गड़बड़ियां होने की शिकायत की थी और इनके उपयोग पर रोक लगाई थी.

महानिदेशक (चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण), उत्तर प्रदेश द्वारा जारी किए गए आदेश के बाद सूबे में कोरोना वायरस समर्पित अस्पतालों में मरीजों द्वारा मोबाइल के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया गया है. डीजी के अनुसार, मोबाइल से कोरोना संक्रमण फैलता है. इसके बाद कोरोना वार्ड में नई व्यवस्था के तहत हॉस्पिटल के वार्ड इंचार्ज के पास 2 मोबाइल फोन रहेंगे. जिसके द्वारा वार्ड इंचार्ज मरीजों की उनके परिवार वालों से बातचीत कराएंगे.

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक के के गुप्ता की ओर से जारी किए गए आदेश में स्पष्ट कहा गया कि राज्य के कोविड समर्पित एल-2 और एल-3 चिकित्सालयों में भर्ती मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में मोबाइल फोन ले जाने की इजाजत नहीं है, क्योंकि इससे संक्रमण फैलता है. आदेश में कहा गया कि वार्ड इंचार्ज के पास रखे गए उन दोनों फोन का मोबाइल नंबर मरीजों के परिवार वालों और स्वास्थ्य निदेशालय को मुहैया कराया जाए ताकि आवश्यकता पड़ने पर मरीजों से समय-समय पर बात करना संभव हो सके.

कोरोना संकट में पुराने तरीकों से करना होगी बचत

आखिर क्यों इस शख्स ने सीएम योगी को दी गोली मारने की धमकी ?

लंदन से फंसे यात्रियों को लेकर इंदौर पहुंची विशेष फ्लाइट

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -