उत्तर प्रदेश में प्रारंभ हुआ स्टार्टअप फंड, सीएम योगी ने सौपी पहली किश्त

उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस समय बड़ी संख्या में प्रवासी कामगार और श्रमिक उत्तर प्रदेश में आए हैं. हमें उनकी स्किल के अनुसार उन्हें रोजगार उपलब्ध कराना. इससे ना सिर्फ उनकी समस्याओं का समाधान होगा, बल्कि उनकी ऊर्जा और प्रतिभा का लाभ उत्तर प्रदेश के माध्यम से पूरे देश को भी मिलेगा. उन्होंने कहा कि हमारी नीयत नेक है, लेकिन नीयत के साथ-साथ निर्णय लेने की क्षमता को भी गति देनी होगी, तभी हम लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर पाएंगे.

बिडेन को मिली बड़ी सफलता, ओरेगन से जीती राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी

बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश स्टार्टअप फंड का शुभारंभ किया और भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक को 15 करोड़ रुपये की पहली किस्त सौंपी. इस दौरान उन्होंने कहा कि कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों के लिए एक नई स्टार्टअप नीति प्रदेश में बने जिससे प्रदेश का युवा जुड़ सकें. इसके साथ ही जॉब की संभावनाओं को बल मिल सके. 

क्या वयस्कों के मुकाबले बच्चों में कम फैलता है कोरोना संक्रमण ?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इसी क्रम में प्रदेश सरकार और सिडबी के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ है. इस दौरान उन्होंने कहा कि किसी भी अच्छे कार्य को तीव्रता के साथ आगे बढ़ाने के लिए समय पर निर्णय लेना अतिआवश्यक होता है, वरना एक बड़ा वर्ग योजनाओं के लाभ से वंचित रह जाता है. यदि समय पर सही निर्णय लेकर कार्य प्रारंभ कर दिए जाएं तो बहुत सारे लोगों के जीवन को एक नई दिशा दी जा सकती है. 

डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कांग्रेस पर किया पलटवार, बोली यह बात

आयुष्मान योजना की सफलता का पीएम मोदी ने खोला राज, कही यह बात

अंटार्कटिका : क्या है उच्च-ऊर्जा कणों के फव्वारे का राज ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -