'मन, शरीर और आत्मा की एकता का जरिया है योग..', अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर संयुक्त राष्ट्र ने की तारीफ

'मन, शरीर और आत्मा की एकता का जरिया है योग..', अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर संयुक्त राष्ट्र ने की तारीफ
Share:

नई दिल्ली: प्राचीन अनुशासन को मान्यता देने वाले अंतर्राष्ट्रीय दिवस को मनाने वाले इसके नेताओं के अनुसार, योग वैश्विक एकता के लिए विश्व संगठन के प्रयासों का प्रतीक है। संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के अध्यक्ष डेनिस फ्रांसिस ने शुक्रवार को कहा कि योग "संयुक्त राष्ट्र के लिए एक शक्तिशाली रूपक है"।

उन्होंने 10वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह के अवसर पर एक वीडियो संदेश में कहा कि, "जिस प्रकार योग मानव अनुभव के विभिन्न पहलुओं को एक साथ लाकर एक संतुलित समग्रता का निर्माण करता है, उसी प्रकार संयुक्त राष्ट्र विभिन्न देशों और संस्कृतियों को साझा लक्ष्यों की दिशा में काम करने के लिए एकजुट करता है।" उन्होंने कहा, "इस एकता में अलग-अलग हिस्से एक साथ मिलकर अपने हिस्सों से भी बड़ा एक एकीकृत योग बनाते हैं, जो शांति और सद्भाव का प्रतीक है, क्योंकि हम आज इस उत्सव में एकजुट हैं।" कार्यक्रम में उपस्थित उप महासचिव अमीना मोहम्मद ने कहा कि योग की एकजुटता की शक्ति संयुक्त राष्ट्र के समारोहों में दिखाई देती है।

उन्होंने कहा कि, "योग एकता के बारे में है, मन, शरीर और आत्मा की एकता के बारे में है। यह आपके बारे में है, यह मेरे बारे में है और यह हमारे बारे में है, और आज संयुक्त राष्ट्र में, हम देखते हैं कि यह कैसे संस्कृतियों और देशों के लोगों को एकजुट करता है।" उन्होंने पिछले वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ आयोजित योग दिवस को याद किया, जिसमें सर्वाधिक देशों के लोगों द्वारा एक साथ योगाभ्यास करने का गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड दर्ज हुआ था।

उन्होंने कहा, "यह उपलब्धि योग की वैश्विक लोकप्रियता, इसकी सार्वभौमिक अपील तथा लोगों को उनके साझा हितों और साझा मानवता के लिए एक साथ लाने की इसकी शक्ति का एक अद्भुत और शक्तिशाली प्रतीक है।" महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने एक लिखित संदेश में कहा, "इस वर्ष का विषय - 'स्वयं और समाज के लिए योग' - हमें लोगों के जीवन और व्यापक समुदाय को बेहतर बनाने में योग की महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाता है।" 

उन्होंने कहा, "अब दुनिया भर में सभी धर्मों और संस्कृतियों के लोगों द्वारा अपनाया जा रहा योग, संतुलन, सजगता और शांति के अपने मूल्यों के माध्यम से लोगों और ग्रह दोनों को एकजुट करता है।" एक चिलचिलाती गर्मी के दिन, जब पूर्वी नदी से आती हुई हल्की हवा संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय के उत्तरी लॉन में बह रही थी, तो इस समारोह में सामूहिक योगाभ्यास का आयोजन किया गया, जिसमें विश्व भर से आए राजनयिकों और संयुक्त राष्ट्र कर्मचारियों तथा भारतीय समुदाय के आमंत्रित सदस्यों ने भाग लिया, जो योग दिवस के लोगो वाली सफेद और नीली टी-शर्ट पहने हुए थे।

संयुक्त राष्ट्र की अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समिति की अध्यक्ष डेनिस स्कोटो ने कहा कि यह "उल्लेखनीय" है कि 177 देशों ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने वाले 2014 के महासभा प्रस्ताव को सह-प्रायोजित किया। उन्होंने कहा, "यह विश्व भर की एकता को दर्शाता है।" संयुक्त राष्ट्र चैंबर म्यूजिक सोसाइटी ने बंगाली में रवींद्रनाथ टैगोर की "स्ट्रीम्स ऑफ लाइट" का प्रदर्शन किया। भारतीय राग नृत्य मंडली ने शास्त्रीय नृत्य प्रस्तुत किया, जिनमें से एक में "योग मुद्राएं" भी शामिल थीं।

प्रेमी के साथ गांव से भागी शादीशुदा महिला को गांववालों ने दी तालिबानी सजा, रूह कंपा देने वाला है मामला

'पेपर लीक से हिंदू बच्चे भी हुए प्रभावित', ऐसा क्यों बोले दिग्विजय सिंह?

राहुल गांधी को 'बड़ी जिम्मेदारी' देने के लिए कांग्रेस ने पास किया प्रस्ताव, आखिर क्यों नहीं मान रहे रायबरेली के सांसद ?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -