भारतीय मूल के अमेरिकी योगगुरु पर यौन उत्पीड़न का आरोप, चुकाने होंगे 6 करोड़

Jan 27 2016 12:15 PM
भारतीय मूल के अमेरिकी योगगुरु पर यौन उत्पीड़न का आरोप, चुकाने होंगे 6 करोड़

वॉशिंगटन : भारतीय मूल के एक प्रमुख अमेरिकी योगगुरु बिक्रम चौधरी को अपनी ही पूर्व वकील के यौन उत्पीड़न के मामले में अमेरिका की एक अदालत ने 9,24,500 डॉलर यानि 6 करोड़ 28 लाख रुपए चुकाने का आदेश दिया है। योग गुरु पर अपनी ही वकील के यौन उत्पीड़न करने का आरोप है। 69 साल के बिक्रम पर आऱोप है कि उसने यौन उत्पीड़न की जांच कर रही वकील का ही यौन उत्पीड़न किया है।

वकील मीनाक्षी जफा बोड्डेन ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि चौधरी के लिए काम करते हुए उन्हें लिंग भेदभाव, गलत तरीके से बर्खास्तगी और यौन उत्पीड़न झेलना पड़ा। लॉस एंजिलिस की ज्युरी ने तकरीबन एक दिन तक इस पर चर्चा के बाद मीनाक्षी के हक में फैसला सुनाया। सुनवाई के दौरान चौधरी ने इन आरोपों से पूरी तरह इंकार करते हुए कहा कि कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार और उत्पीड़न के आरोप झूठे है।

न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, चौधरी ने कहा कि 2013 में हटा दिया गया था क्यों कि उनके पास अमेरिका में वकालत का लाइसेंस नही था। मीनाक्षी का आरोप था कि योगगुरू ने 2011 में उसे रजामंद किया कि वह उनके वकील के तौर पर काम करने के लिए अपने देश भारत लौट जाए। मीनाक्षी ने आरोप लगाया कि नौकरी के दौरान योगगुरु ने उसका यौन उत्पीड़न किया और उसपर अश्लील टिप्पणियां की।

साथ ही उसने यह भी आरोप लगाया कि जब उसने एक शिष्या के बलात्कार समेत योग गुरु के खिलाफ यौन उत्पीड़न और कदाचार के आरोपों की जांच शुरु की, तो उन्हें बर्खास्त कर दिया गया। इसके अलावा भी चौधरी के खिलाफ कई मामले दर्ज है।