यही दुनिया का दस्तूर है

यही दुनिया का दस्तूर है

मत सोचो की बुरे वक्त में,

कोई तुम्हे संभाल लेगा।

इस उम्मीद में कभी भी मत रहो की,

कोई तुम्हारी सहायता करेगा।

इस उम्मीद में मत फ़िसलो,

की कोई तुम्हे संभाल लेगा।

सोच कर मत डुबो की,

कोई तुम्हें कोई बचा लेगा।

यह दुनिया तो एक ठिकाना है,

यारो सिर्फ तमाशबीनों का।

अगर देखा तुम्हे अँधेरे में तो,

साया भी साथ छोड़ जाये।