नेहरू की भांजी नयनतारा ने साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने की घोषणा की

Oct 06 2015 08:01 PM
नेहरू की भांजी नयनतारा ने साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने की घोषणा की

नई दिल्ली:  भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की भांजी नयनतारा सहगल(88) ने अपने एक बयान में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उनको दिए गए साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने की घोषणा की है. आपको बता दे की जवाहरलाल नेहरू की भांजी नयनतारा सहगल एक प्रसिद्ध लेखिका है, उन्होंने दोहराया की जिस तरह से उत्तरप्रदेश के दादरी में गोमांस की अफवाह के बाद एक मुसलमान शख्स मोहम्मद अख़लाक़ की हत्या के अलावा प्रसिद्ध लेखक एमएम कलबुर्गी, समाजसेवी नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पनसारे की हत्याओं के बाद देश का माहौल लगातार काफी गंभीर हो गया है, इस पर अभी तक भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी चुप्पी साधे हुए है व मोदी ने इन घटनाओ के बाद अभी तक एक शब्द भी नही बोला है.

पूरा देश इन घटनाओ पर मोदी के बयान सुनना चाहता है. नयनतारा ने आगे कहा की नरेंद्र मोदी के राज में हम पीछे की तरफ जा रहे है. व हम हिंदुत्व के दायरे में सिमट रहे है व लोगो के मन में इसके लिए भय बना हुआ है. बता दे की नयनतारा सहगल अपने राजनीतिक विचारों को बेबाक तरीके से व्यक्त करने के लिए भी प्रसिद्ध है. व नयनतारा ने सन 1975-77 के दौरान इंदिरा गांधी द्वारा इमरजेंसी लगाए जाने का भी कड़ा रुख अख्तियार किया था. नयनतारा सहगल को यह प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार 1986 में उनके द्वारा लिखे गए अंग्रेज़ी उपन्यास 'रिच लाइक अस' के लिए उन्हें प्रदान किया गया था.