सफ़ेद वस्त्र धारण करके करे माँ चंद्रघंटा की पूजा

आज नवरात्रि का तीसरा दिन है,आज के दिन माँ के तीसरे रूप मां चंद्रघंटा का पूजा की जाती है. मां चंद्रघंटा बहुत ही सौम्य रूप वाली है,.इन्हे सुगन्धित चीजे बहुत पसंद होती है.ये शेर पर सवार रहती है और इनके दस हाथ होते है,और ये अपने हर हाथ में अलग-अलग शस्त्र धारण करती है.माँ चंद्रघंटा हमारी आसुरी शक्तियों से रक्षा करती हैं.जो भी व्यक्ति मां चंद्रघंटा की आराधना करता है उनका अहंकार अपने आप नष्ट हो जाता है और उनको सौभाग्य, शांति और वैभव की प्राप्ति होती है.

मां चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र बना हुआ रहता है इसलिए उनका नाम चंद्रघंटा है. मां चंद्रघंटा अपने गले में सफेद फूलों की माला धारण किये रहती है.  

अगर आप माँ चंद्रघंटा को प्रसन्न करना चाहते है तो इसके लिए इनकी पूजा के समय हमेशा भूरे रंग के कपड़े पहने.चंद्रघंटा को अपने वाहन सिंह से बहुत प्रेम करती है,इसीलिए इनकी पूजा करते वक़्त सुनहरे रंग के कपड़े पहनना भी अच्छा होता है. मां को सफेद रंग बहुत पसंद होता है इसलिए इन्हे भोग या प्रसाद के रूप में सफ़ेद रंग की चीजे जैसे दूध या खीर का भोग लगाना चाहिए. इसके अलावा आप माता चंद्रघंटा को शहद का भोग भी लगा सकते है.

माँ चंद्रघंटा के पूजन हेतु मंत्र-

पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता.
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता..

 

नवरात्री में वास्तु के अनुसार करे माँ की पूजा

जानिए लक्ष्मीजी की कृपा पाने के कुछ संकेत

जानिए क्या है माँ ब्रम्ह्चारिणी की पूजा करने का तरीका

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -