बिहार में दिखाई दी भाईचारे की मिसाल, हिन्दू-मुस्लिम मिलकर बना रहे विश्व का सबसे बड़ा राम मंदिर

पटना: हमने अक्सर धर्म और मजहब के नाम पर हिंदु और मुस्लिमों को आपस में लड़ते हुए ही देखा है. अयोध्या में बाबरी मस्जिद और राम मंदिर को लेकर दोनों समुदाय के लोगों को झगड़ते हुए देखा है. इन सबके बीच बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में हिंदु-मुस्लिम भाईचारे का एक अनोखा उदहारण देखने को मिला है. इस जिले के केसरिया ब्लॉक में विश्व के सबसे बड़े राम मंदिर का निर्माण किया जा रहा है.

इस मंदिर के निर्माण को लेकर हिंदु समुदाय जितना उत्साहित है, उससे कहीं अधिक खुशी मुसलमान भाइयों के चेहरे पर दिख रही है.इस मंदिर का निर्माण पटना के महावीर मंदिर ट्रस्ट द्वारा किया जा रहा है. इस ट्रस्ट के सचिव आचार्य किशोर कुणाल के अनुसार इस मंदिर के लिए पहले हिंदु समुदाय के लोग सहायता कर रहे थे, किन्तु अब मुसलमान भी बढ़ चढ़कर इस मंदिर के लिए सहायता कर रहे हैं. विराट रामायण मंदिर बनाने के लिए कई मुस्लिमों ने अपनी ज़मीन दान दी है, इतना ही नहीं कुछ मुसलमानों ने मंदिर के लिए ज़मीन खरीदने में भी सहयोग दिया है. 

इस मंदिर के लिए 200 करोड़ रूपए खर्च से भूखंड ख़रीदा गया है. बताया जा रहा है कि इस मंदिर की वास्तुकला कंबोडिया के अंकोरवाट मंदिर और तमिलनाडु के मदुरै मंदिर की तरह ही खूबसूरत और आकर्षक होगी. यह मंदिर विश्व का सबसे बड़ा राम मंदिर होगा. इसमें 18 शिखर और 18 गर्भगृह बनाए जाएंगे. यह मंदिर 2800 फुट लंबा और 1500 फुट चौड़ा होगा और इसकी ऊंचाई 270 फुट रहेगी. इस मंदिर का नाम विराट रामायण मंदिर रखा जाएगा. इस मंदिर में श्रीराम, माता सीता के साथ उनके दोनों पुत्र लव-कुश और महर्षि वाल्मीकि की मूर्तियां स्थापित की जाएंगी. 

खबरें और भी:-

Paytm Holi 2019 offer : एक छोटी सी कोशिश और पाएं 4000 रु कैशबैक

होली पर बनाइये ऐसी स्वादिष्ट गुजिया, तारीफ करते रह जाएंगे लोग

यहां रंगों से नहीं बल्कि चिता की राख से खेली जाती है होली

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -