2990 करोड़ में बनी लौह पुरुष की विश्व की सबसे ऊंची इमारत, चीन दे रहा आखिरी रूप

Sep 06 2018 09:33 AM
2990 करोड़ में बनी लौह पुरुष की विश्व की सबसे ऊंची इमारत, चीन दे रहा आखिरी रूप

वैसे तो आज तक आपने दुनियाभर की ऐसी कई इमारतें देखी होंगी जो अपनी ऊंचाई के कारण विश्वभर में प्रसिद्द है लेकिन अब हमारे देश में दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा बन गई है. ये प्रतिमा भारत के लौह पुरुष कहे जाने वाले सरदार वल्लभभाई पटेल की है जिसे गुजरात में बनाया गया है. सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा की ऊंचाई करीब 182 मीटर है. उनकी इस प्रतिमा का नाम 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' रखा गया है.

आपको बता दें सरदार वल्लभ भाई पटेल पहले गृहमंत्री और भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री रहे हैं. आजादी के बाद वल्लभ भाई पटेल ने भारत के राजाओं को अपनी रियासत को भारत में मिलाने के लिए मनाने में अहम् योगदान दिया है और इसलिए ही उन्हें लौह पुरुष के नाम से जाना जाता है. वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का गुजरात की विधान सभा से एक खास कनेक्शन है. दरअसल गुजरात विधानसभा में कुल 182 सीटे हैं उतनी ही ऊंचाई इस प्रतिमा की भी रखी गई है.

क्या है इस स्टैच्यू की खासियत-

-सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टैच्यू के ढांचे को कंक्रीट और स्‍टील से बनाया गया है.

- इस स्टैच्यू में चीन के टीक्‍यू आर्ट फाउंड्री के कारीगर ताम्बे का बाहरी ढांचा बनाने में मदद करेंगे.

-प्रतिमा में धोती और पैरों के लिए तांबे के उच्‍च गुणवत्ता वाले पैनल चीन से आएँगे और फिर ये प्रतिमा स्थल पर लगाएंगे.

-इस प्रतिमा को बनाने के लिए करीब 2400 कारीगर दिन रात मेहनत कर रहे हैं.

-इस प्रतिमा को बनाने के लिए चीन से करीब 100 कारीगरों की मदद ली गई है.

-प्रतिमा में स्टील फ्रेम वर्क बनाने के लिए मलेशिया की एवरसेनडाई को ठेका दिया गया है. आपकी जानकारी के लिए बताते इस कंपनी ने ही दुबई के मशहूर बुर्ज खलीफा और बुर्ज अल-अरब जैसी इमारतें बनाई हैं.

सरदार वल्लभ भाई पटेल की ये प्रतिमा गुजरात के अहमदाबाद से 200 किलोमीटर की दूरी पर है. इसका काम साल 2013 में शुरू हुआ था जो अब तक चल रहा है. अब बात करते है इस प्रतिमा की लागत की तो स्टैच्यू को बनाने में कुल 2990 करोड़ रूपए खर्च हुए हैं. इस खर्चे में 2332 करोड़ रूपए को प्रतिमा के निर्माण में और बाकि के 600 करोड़ रूपए इसे 15 साल तक रखरखाव के लिए है. सरदार वल्लभ भाई पटेल की इस विशालकाय प्रतिमा का उद्घाटन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर को करेंगे.

आज सवर्णों का भारत बंद, मध्य प्रदेश को बताया सबसे सवेंदनशील

समलैंगिकता पर आज होगा ऐतिहासिक फैसला

सस्ते में घूम सकते हैं आप देश-विदेश, 4 एयरलाइन्स ने दिए ये ऑफर

?