आज दिल खोलकर हंसने मुस्कुराने का दिन है

वो बचपन की बिंदास हँसी कही खो गई है, चलो आओ आज हंसने मुस्कुराने का दिन है तो दिल खोलकर हंस ले.......हंसने में कैसी कंजूसी, 'बापू सेहत के लिए हानिकारक है' लेकिन अगर आप हंसते नहीं तो यह आपकी सेहत के लिये भी हानिकारक हो सकता है, जी हाँ ऐसा हम नहीं बल्कि चिकित्सकों का कहना है। 

आज की लाइफस्टाइल दौड़ भाग वाली लाइफस्टाइल हो गई है, मानसिक तनाव के साथ तो व्यक्ति हर दिन जीता ही है वहीं शारीरिक थकान भी व्यक्ति को चकनाचूर कर देती है। यदि शरीर और मन को स्वस्थ्य प्रसन्न रखना है तो फिर हंसी ही एक मात्र इसका बेहतर उपाय हो सकता है, तो फिर देर किस बात की, हंसों, खिलखिलाते रहो और दिल खोलकर हंसो, इसमें आपका क्या जाता है।

क्या आपको याद है कि आप आखिरी बार दिल खोलकर कब हंसे थे, या कोई ऐसी बात जिसको सुनकर लोटपोट हो गये हों, शायद आपको यह याद नहीं होगा, क्योंकि आजकल लाइफ में काम ही इतने है कि हंसने की फुर्सत ही नहीं। हाॅं द कपिल शर्मा शो और ऐसे ही कुछ और हास्य से ओत-प्रोत कार्यक्रम टीवी चैनलों पर जरूर प्रसारित होते है, जिसे देखकर चंद मिनट चेहरा मुस्कुराता जरूर है, परंतु दिल खोलकर हंसने का मन इसलिये नहीं करता है, क्योंकि थकान आपको हंसने का मौका ही नहीं देती। 

10 जनवरी को (World Laughter Day) विश्व हास्य दिवस इसलिये मनाया जाता है कि कम से कम साल में एक बार ही सही आप हंसे तो सही वो भी दिल खोलकर। वैसे हंसी के फायदे बहुत है, इसलिये हंसो और लाइफ में मस्त रहो।

न दवा और न दुआ, बस हंसो

आपको जानकर हैरानी होगी कि लाइफ में बहुत सी बिमारियों का इलाज हंसी ही है, जी हाँ हंसी से कोई बड़ी दवा नहीं मानी जाती है। कितना ही मानसिक तनाव हो, यदि थोड़ा सा दिल से हंस लिया जाये तो थकान और तनाव चंद मिनट में दूर हो जायेंगे। कुछ शहरों में लाफ्टर योगा क्लब भी है जहाँ ढेर सारे लोग दिल खोलकर हँसते है, आप भी ऐसे क्लब, गार्डन्स में जाकर कुछ समय के लिए सारी चिंता परेशानियों को भूलकर दिल खोलकर हंस सकते है.     

एक रिसर्च के अनुसार पहले लोग रोजाना करीब 18 मिनट हंसते थे और अब 6 मिनट ही हंसते हैं जबकि हंसना बेहद फायदेमंद है। दिल खोलकर हंसनेवाले लोग बीमारी से दूर रहते हैं और जो बीमार हैं वे जल्दी ठीक होते हैं। हंसी न सिर्फ हंसनेवाले बल्कि उसके आसपास के लोगों पर भी पॉजिटिव असर डालती है इसलिए रोजाना हंसें खूब हंसें जोरदार हंसें दिल खोलकर हंसें।

जरा गौर करें इन फायदों पर 

. हंसी से टेंशन और डिप्रेशन कम होता है।
. यह नेचुरल पेनकिलर का काम करती है।
. हंसी शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाती है।
. हंसी ब्लड सर्कुलेशन को कंट्रोल करती है। दिल खोलकर जोरदार हंसी कसरत का भी काम करती है।

. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी करती है।
. इससे काम करने की क्षमता बढ़ती है।
. यह आत्मविश्वास और पॉजिटिव नजरिए में इजाफा करती है।
. इसे नेचरल कॉस्मेटिक भी कह सकते हैं क्योंकि इससे चेहरा निखरता है खूबसूरत बनता है।

'रवि अलावा'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -