कामकाजी महिलाओं के कारण देश में बढ़ रही बेरोजगारी

Sep 23 2015 02:18 PM
कामकाजी महिलाओं के कारण देश में बढ़ रही बेरोजगारी

रायपुर : छत्तीसगढ़ में 10वीं क्लास की एक टेक्स्ट बुक में देश में बढ़ती बेरोजगारी का कारण वर्किंग वुमन को माना गया है. सामाजिक विज्ञान की टेक्स्ट बुक के एक चैप्टर में यह बात कही गई है. यह बात तब सामने आई जब जशपुर जिले की एक महिला टीचर ने इसकी शिकायत राज्य सरकार और स्टेट वुमन कमीशन से शिकायत की है. इस किताब को छत्तीसगढ़ बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन द्वारा पब्लिश किया गया है. सामाजिक विज्ञान की इस किताब में ‘इकोनॉमिक प्रॉब्लम्स एंड चैलेंजेस’ टाइटल से एक चैप्टर दिया गया है. इसमें कहा गया है कि आजादी के बाद से देश में बेरोजगारी बढ़ी है, क्योंकि महिलाओं ने हर क्षेत्र में काम करना शुरू कर दिया है.

शिकायतकर्ता 24 वर्षीय टीचर सौम्या गर्ग का कहना है कि इस तरह की बातों से बच्चों पर गलत प्रभाव पड़ता है उनका कहना है कि महिलाओं को भी पुरुषों की तरह रोजगार में बराबरी का हक है. सौम्या ने एक महीने पहले स्टेट वुमन कमीशन में इसकी शिकायत की थी लेकिन अब तक कोई जवाब नहीं मिला है. इस पर स्टेट वुमन कमीशन की मेंबर हर्षिता पांडे ने कहा कि “मैंने इस बारे में खुद मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री को चिट्ठी लिखी है."

वहीं दूसरी ओर स्टेट काउंसिल फॉर एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (SECRT) के डायरेक्टर संजय ओझा नेकहा कि 'यह बहस का विषय है. यह लेखक का नजरिया है, जो उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर दिया है. अब यह यह टीचर्स की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को इस बारे में कैसे समझाते हैं.'