यूपी बॉर्डर पर फंसे 500 मजदूर, नहीं मिली अपने ही राज्य में एंट्री

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के बीच हरियाणा के अंबाला में करीब 500 श्रमिक फंस गए हैं, जो उत्तर प्रदेश में जाने का इंतजार कर रहे हैं. देर रात हरियाणा सरकार ने 18 रोडवेज बसों के माध्यम से इन श्रमिकों को भेजा था. जिन्हें एनओसी न होने के कारण वापस कर दिया गया है.

जल्द ही हिमाचल के 3 और कॉलेजों में शुरू होगा कोरोना का टेस्ट

अपने बयान में गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि यूपी ने अपने ही नागरिकों को यूपी में दाखिल नहीं होने दिया और यूपी बॉर्डर से ही श्रमिकों को कई घंटे इंतजार करवाने के बाद लौटा दिया गया. विज ने कहा कि अगर इन श्रमिकों के रिसीविंग प्रदेश एनओसी देते हैं तो हरियाणा महज 4 दिनों में सभी श्रमिकों को उनके प्रदेशों में भेज देंगे. विज ने कहा कि इस मामले में कठिनाई ही यही है कि प्रदेश श्रमिकों को लेने को ही तैयार नहीं हैं.ऐसे में श्रमिकों को जब वापस लाया जाता है तो उनका धैर्य भी जवाब दे जाता है. 

प्रवासी मजदूरों की जल्द समाप्त होगी परेशानी, यह राज्य देने वाला रोजगार

इसके अलावा विज ने कहा कि ऐसे में सभी राज्यों को केंद्र की हिदायतों के मुताबिक श्रमिकों को संभालकर कर रखना चाहिए. इनके खाने, स्वास्थ्य और रहने के इंतजाम करने चाहिए. वहीं पंजाब से आ रहे श्रमिकों को रोकने के लिए हरियाणा की तरफ से सभी कच्चे पक्के रास्तों पर पुलिस बल बढ़ा दिया गया है.

देश में पहली बार एक दिन में हुई एक लाख कोरोना जांच, अब तक हो चुके हैं 24 लाख टेस्ट

ख़त्म हुआ इंतज़ार, कल जारी हो सकते हैं बिहार मेट्रिक परीक्षा के रिजल्ट

चक्रवात अम्फान पर ममता से अमित शाह ने की बात, दिया हरसंभव मदद का भरोसा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -