MP में शराब फैक्ट्री में बाल श्रमिकों से करवाया जा रहा था काम, CM के एक्शन के बाद कई अधिकारियों पर गिरी गाज

MP में शराब फैक्ट्री में बाल श्रमिकों से करवाया जा रहा था काम, CM के एक्शन के बाद कई अधिकारियों पर गिरी गाज
Share:

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सटे रायसेन में एक शराब फैक्ट्री में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम ने छापा मारकर 2 दर्जन से अधिक बाल मजदूरों को मुक्त कराया. इस मामले में अब सीएम मोहन यादव ने कड़ा रुख अपनाया है तथा कई अधिकारियों पर एक्शन लिया है. दरअसल, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो इन दिनों मध्य प्रदेश के दौरे पर हैं. उन्हें शिकायत प्राप्त हुई थी कि रायसेन स्थित शराब फैक्ट्री में मासूमों से काम कराया जाता है. तत्पश्चात, आयोग की टीम ने छापा मारकर मासूम बाल मजदूरों को वहां से रेस्क्यू कर प्रशासन की सौंप दिया. 

टीम न पाया कि रसायनों के सम्पर्क में रहने से कई बच्चों के हाथ की चमड़ी भी जल चुकी है. मामले ने तूल पकड़ा तो बात सीएम मोहन यादव तक पहुंची तथा उन्होंने इसपर कड़ा एक्शन लिया. मुख्यमंत्री मोहन यादव ने मामले को बेहद गंभीर बताया था तथा 24 घंटे के अंदर ही कार्रवाई करते हुए प्रभारी जिला आबकारी अफसर कन्हैयालाल अतुलकर, मैसर्स सोम डिस्टलरीज प्राइवेट लिमिटेड, सेहतगंज को निलंबन कर दिया गया. इसके अतिरिक्त रायसेन जिले के तीन आबकारी उप-निरीक्षकों प्रीति शैलेंद्र उईके, शैफाली वर्मा एवं मुकेश कुमार को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया गया है. हालांकि अब मामले ने तूल पकड़ लिया है क्योंकि आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने रविवार को इल्जाम लगाया है कि कार्रवाई के डर से बाल मजदूरों को गायब करवा दिया गया है. 

कानूनगो ने रविवार प्रातः X पर पोस्ट करते हुए लिखा, ''NCPCR ने प्रशासन को सौंपे, बच्चे कस्टडी से गायब.'' दरअसल, बाल आयोग ने बच्चों को रेस्क्यू कर प्रशासन को सौंप दिया था तथा SDM को निर्देश दिए कि इन्हें CWC के सामने पेश किया जाए. दोषियों बाल संरक्षण कानूनों के तहत कार्रवाई की जाए. इतना निर्देश देकर वे वहां से चले गए, अब उन्हें खबर प्राप्त हुई कि बच्चे प्रशासन की कस्टडी से ही गायब हो गए. इस बात की पुष्टि स्वयं प्रियंक कानूनगो ने की है. प्रियंक कानूनगो ने कहा, ''कल दोपहर मध्यप्रदेश के रायसेन ज़िले में निरीक्षण के चलते हमको सोम डिस्टलरी में शराब बनाने के काम में नियोजित मिले 39 बालक एवं किशोरों को देर शाम फ़ैक्टरी से ग़ायब कर दिया गया है!

क़ानून के मुताबिक, बाल/बंधुआ श्रम से रेस्क्यू किए गए बच्चों को SDM के समक्ष प्रस्तुत कर बयान करवाए जाते हैं तथा CWC की तीन सदस्यीय बेंच उनके पुनर्वास के लिए आदेश करती है. दोपहर 1:30 बजे के आसपास कलेक्टर ने मुझे फ़ोन पर सूचित किया था कि संबंधित SDM व CWC को फ़ैक्टरी पर पहुंचने के निर्देश दिए  हैं. हमने 3:28 PM समस्त जानकारी मौजूदा पुलिस अफसरों को प्रदान कर दी थी तथा DPO व SDO व श्रम विभाग को मामला सौंप कर वहां से रवाना हुए. देर रात तक CWC का कोरम पूरा नहीं हो पाया, जिससे वैधानिक आदेश नहीं हो सके एवं SDM साहब को हाइवे की चौड़ी सड़क पर ज़िला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर आने में 5 घंटे लग गए. ADM साहिबा को इतनी दूरी तय करने में 7 घंटे लगे. इस वजह से देर रात तक इनके न आने से पुलिस FIR नहीं कर सकी तथा इस बीच वहां से 39 बच्चे ग़ायब कर दिए गए.

खबर मिलने पर हम लोग देर रात वापस पहुंचे. थाने भी गए परंतु रात्रि 12 बजे तक बच्चों का कोई अता पता नहीं लग सका था. अब ये बच्चे कहां हैं? इन्हें प्रशासन की नाक के नीचे से कौन, कैसे ले गया, ये कब तक CWC की पूर्ण कोरम बेंच के सामने प्रस्तुत किए जाएंगे, ये प्रश्न फ़िलहाल अनुत्तरित है. सीएम मोहन यादव के निर्देश के पश्चात् सरकार के आला अफसर भागदौड़ में लगे हैं. देर रात इस नई घटना पर FIR दर्ज किए जाने की तैयारी की खबर प्राप्त हुई है तथा अभी कई सरकारी अफसरों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की तैयारी चल रही है. 

राहुल-प्रियंका और सोनिया, संसद में होगा पूरा गांधी परिवार ! कांग्रेस प्रमुख खड़गे का बड़ा फैसला

दोस्त बना रहा था वीडियो तभी लड़की ने बैक गियर में दबा दिया कार का एक्सलेटर, हुई दर्दनाक मौत

'अपनी प्राणों से प्रिय जनता को प्रणाम', विधायकी से इस्तीफा देकर भावुक हुए शिवराज

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -