सबरीमाला मंदिर की तरह बंगाल के कालीपूजा पंडाल में भी महिलाओं का प्रवेश वर्जित

कोलकाता: देश में वर्तमान समय में विरोधी स्वर तेज होते जा रहे है। केरल में हो रहे सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के विरोध का असर अब और अधिक होने लगा है। जी हां जानकारी के अनुसार बता दें कि सबरीमाला मंदिर के जैसे ही कोलकाता में भी एक काली पूजा आयोजन समिति के पंडाल में महिलाओं को प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई है। जिससे यहां माहौल कुछ ठीक नहीं है। 

भारत चीन सीमा पर जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे सेना प्रमुख बिपिन रावत

दरअसल सबरीमाला मंदिर में महिलओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध के जैसे ही कोलकाता में स्थित इस काली मंदिर में भी महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी लगाई गई है। वहीं बुद्धिजीवियों के विरोध के बावजूद भी इस पंडाल की परंपरा पिछले 34 सालों से अब तक कायम है। यहां बता दें कि महानगर के दक्षिण में स्थित चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति के आयोजकों ने बताया है कि 34 साल पहले बीरभूम जिले के तारापीठ में स्थित शक्तिपीठ के पुजारियों ने इस पूजा की शुरुआत की थी और उसी समय से पंडाल में महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जाता है। 

ट्रेन हादसे में हुई चार गैंगमैनों की दर्दनाक मौत

गौरतलब है कि भारत में इस तरह की परंपरा आज भी कायम है जिससे कहीं न कहीं लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा समिति के संयुक्त सचिव शैवाल गुहा ने बताया कि यदि पंडाल में किसी महिला को प्रवेश करने दिया गया तो इलाके में भारी विपत्ति आएगी और वर्षों पुरानी परंपरा तोड़ी नहीं जा सकती। साथ ही स्थानीय लोगों का भी इस परंपरा में पूरा सहयोग प्रदान है। वहीं मंदिर की जो परंपरा बनी है उसे लोग आज भी निभा रहे है। 

 

खबरें और भी 

दूरसंचार कंपनियां नहीं कर सकेंगी सिम कार्ड सत्यापन में आधार का प्रयोग

कश्मीर में मौसम की मार, सेब किसानों को 500 करोड़ का नुकसान

अचानक सरकारी कर्मचारियों के खाते में आ गया डबल वेतन, फिर हुआ कुछ ऐसा...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -