छात्रा ने पहना हिजाब तो दिल्ली मेट्रो में नही करने दिया सफ़र

नई दिल्ली। देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की एक मुस्लिम छात्रा को मेट्रो में सफ़र करने से इसलिए रोक दिया गया क्योकि उसने हिजाब पहन रखा था। छात्रा का नाम हुमेरा खान है और उसने अपने साथ हुए इस बर्ताव को सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। साथ ही पीडिता ने इसकी शिकायत डीएमआरसी से भी की है। हुमेरा के मुताबिक 6 मई को मयूर विहार मेट्रो स्टेशन पर उसके साथ यह बर्ताव किया गया।

हुमेरा ने इस मामले के बारे में बताया कि मेट्रो स्टेशन पर सुरक्षा जांच के दौरान महिला सुरक्षाकर्मी ने उससे हिजाब उतारने को कहा। उसने कहा कि इसके साथ आप मेट्रो में यात्रा नहीं कर सकतीं मैडम। इस पर हुमेरा ने हिजाब उतारने से इंकार करते हुए वरिष्ठ अधिकारी से बात करने को कहा। बात बढ़ने पर एक वरिष्ठ अधिकारी आया। हुमेरा ने वरिष्ठ अधिकारी से कहा कि वह चाहें तो उनका स्टूडेंट आईकार्ड चेक कर लें।

उसने दलील दी कि बीते दो साल से वह मेट्रो से सफर कर रही है और आज तक उसे हिजाब पहनने से नहीं रोका गया। इस पर अधिकारी ने लताड़ते हुए कहा कि मेट्रो में जाना है तो हिजाब उतारना होगा। हुमेरा ने बताया कि कोई रास्ता न देख वो घर लौट आई और फेसबुक पर इस घटना को पोस्ट किया। हुमेरा ने बताया कि उसने डीएमआरसी में इसकी शिकायत कर दी है। साथ ही कहा है कि अगर वाकई में ऐसा कोई नियम है जो हिजाब पहनने से रोकता है तो उसकी मैं निंदा करती हूं। हुमेरा ने कहा कि हिजाब मुस्लिम महिलाओं का मजहबी पोशाक है।

दिल्ली मेट्रो के एक अधिकारी ने कहा कि फिलहाल तो ऐसी कोई गाइडलाइन नहीं है। सीआईएसएफ और गृह मंत्रालय की ओर से सुरक्षा संबंधी गाइडलाइन जारी किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा कोई वाकया हुआ है तो छात्रा इस संबंध में हमें लिखित में सूचित कर सकती है, ताकि हम इस मामले की पड़ताल कर सकें। वहीं सीआईएसएफ के प्रवक्ता हेमेंद्र सिंह ने कहा कि हिजाब पर किसी प्रकार की रोक नहीं लगी है। रोजाना हजारों महिलाएं हिजाब पहनकर यात्रा करती हैं। सिर्फ चेकिंग के दौरान ही कवर करने वाला परदा या मास्क हटाना होता है। उसके बाद उसे पहनकर यात्रा की जा सकती है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -