घरवाले ढूंढ रहे थे दामाद, अब मुक्केबाज़ बेटी के लिए लानी पड़ेगी बहु

Jun 22 2019 12:17 PM
घरवाले ढूंढ रहे थे दामाद, अब मुक्केबाज़ बेटी के लिए लानी पड़ेगी बहु

कानपुर: यूपी के कानपुर जिले की मुक्केबाज प्रियंका पाल 25 साल की आयु तक महिला मुकाबलों में रिंग में उतरती रहीं। वह यूनिवर्सिटी की ओर से नेशनल लेवल तक खेलीं, किन्तु फिर उन्होंने गुपचुप तरीके से दिल्ली के एक बड़े अस्पताल में अपना लिंग परिवर्तन करवा लिया और पूरी तरह पुरुष बनाने के बाद वह फिर से दुनिया के सामने आई हैं।

यह महिला बॉक्सर अब श्रेयान पाल के नाम से पहचानी जाएंगी। साथ ही उन्होंने अब पुरुषों का बॉक्सिंग कोच बनने की घोषणा की है। पेशे से बिल्डर रामस्वरूप पाल की पुत्री प्रियंका पाल कानपुर के यशोदानगर में रहती हैं। प्रियंका ने लड़की के रूप में जन्म लिया था। बचपन से लेकर 25 वर्ष की आयु तक वह लड़की ही रहीं। गर्ल्स कॉलेज में उनकी शिक्षा पूरी हुई। प्रियंका को बॉक्सिंग का काफी शौक था, इसलिए उन्होंने यूनिवर्सिटी की महिला बॉक्सिंग टीम से नेशनल लेवल तक खेलीं। 

इसके बाद दो साल पहले महिला स्पोर्ट्स टीचर के रूप में हरियाणा में नौकरी शुरू कर दी। प्रियंका को बचपन से लड़कों के जैसे रहना पसंद था। यहां तक कि कपड़े भी वह लड़कों के जैसे ही पहनती थीं। प्रियंका के मुताबिक, उन्हें हमेशा "मर्दानी" बनकर रहना पसंद था और इसी जज्बात के साथ वह मुक्केबाजी में मेडल पर मेडल जीतती चली गईं। अब उनके घर वाले श्रेयान के लिए लड़की ढूंढ रहे हैं।

योग दिवस : जवानों संग आर्मी डॉग ने भी किया योग, जमकर देखीं जा रही तस्वीरें

5 वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर 751 दिव्यांगों के साथ लगाया वृहद योग शिविर

योग के माध्यम से भारत ने दुनिया को दिया अच्छे स्वास्थ का उपहार - मुख़्तार अब्बास नकवी