स्वर्ण मौद्रीकरण योजना : अब सोना निकाल सकते है वक़्त से पहले

Jan 22 2016 02:47 PM
स्वर्ण मौद्रीकरण योजना : अब सोना निकाल सकते है वक़्त से पहले

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देश में शुरू की गई स्वर्ण मौद्रीकरण योजना को बाजार से अच्छा रिस्पांस देखने को नहीं मिला है. और इसके साथ ही यह भी देखने को मिल रहा है कि देश में मंदिर भी इस तरफ अपना रुझान नहीं दिखा रहे है. मामले में हाल ही में यह जानकारी सामने आई है कि इस गोल्ड स्कीम को और भी सुविधाजनक बनाने के लिए रिज़र्व बैंक के द्वारा नए कदम उठाये जा रहे है.

जी हाँ, बताया जा रहा है कि अब मीडियम टर्म और लॉन्ग टर्म के तहत जमा किए गए सोने को मिनिमम लॉक इन पीरियड के बाद और मैच्योरिटी पीरियड से पहले भी निकाला जा सकता है. इस मामले को देखते हुए ही रिजर्व बैंक के द्वारा कुछ दिशानिर्देश भी जारी किये गए है. जिनके अनुसार यह बताया गया है कि केंद्रीय बैंक इस योजना को ग्राहकों के अनुकूल बनाने को लेकर काम कर रहा है और काफी सोचने के बाद ही यह फैसला किया गया है.

इसके साथ ही जानकारी में यह बात भी सामने आई है कि सरकार के द्वारा समय-समय पर जमा पर ब्याज दर का आंकलन किया जाना है और साथ ही इस बारे में रिज़र्व बैंक को भी सूचित किया जाना है. जानकारी में ही यह बात भी सामने आई है कि रिज़र्व बैंक के द्वारा अशोक चक्र वाला "भारत स्वर्ण सिक्का" अपनी ब्रान्चेस को बेचने की अनुमति दे दी है.