PUBG और Call of Duty पर भारत ने इस वजह से नहीं लगाया बैन

PUBG और Call of Duty पर भारत ने इस वजह से नहीं लगाया बैन

59 चाइनीज मोबाइल एप्स पर बैन लगा दिया है | इस लिस्ट में टिकटॉक से लेकर कैमस्कैनर जैसे बड़े एप मौजूद हैं। इन 59 एप्स पर बैन लगने के बाद सोशल मीडिया पर एक सवाल पूछा जा रहा कि आखिर पबजी मोबाइल और कॉल ऑफ ड्यूटी मोबाइल गेम पर बैन क्यों नहीं लगाया गया| इसके बाद  पबजी मोबाइल और कॉल ऑफ ड्यूटी गेम को लेकर लोगों का सवाल यह भी है कि चीन की टैनसेंट गेम्स नाम की कंपनी है| वह इन दोनों गेम को ऑपरेट करती है तो फिर अभी तक इन दोनों गेम्स पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया गया। 

वहीं इस सवाल का सीधा जवाब यह दिया गया है कि ये दोनों एप 100 फीसदी चाइनीज नहीं हैं।चलिए थोड़ा विस्तार से जानते हैं|इसके अलावा PUBG मोबाइल को पबजी कॉरपोरेशन ने तैयार किया गया है जो कि Bluehole की सब्सिडियरी कंपनी है। साथ ही ब्लूहोल दक्षिण कोरिया की एक कंपनी है। पबजी के शुरुआती दौर पर चीन के टैनसेंट गेम्स ने पबजी से एक समझौते के तहत वह चीन में पबजी का संचालन कर रहा है। इसके अलावा मतलब टैनसेंट गेम चीन में पबजी मोबाइल का डिस्ट्रीब्यूटर है। वहीं चीन में पबजी को लेकर टैनसेंट गेम्स की सफलता के बाद पबजी कॉरपोरेशन ने भारत का ठेका भी टैनसेंट को ही दे दिया गया । 

कॉल ऑफ ड्यूटी मोबाइल गेम की बात की जाए तो कॉल ऑफ ड्यूटी एक्टिविजन ने इस गेम की लॉन्चिंग के लिए TiMi स्टूडियोज से समझौता किया है जो कि चीन के टैनसेंट गेम्स की सब्सिडियरी कंपनी है, हालाँकि कॉल ऑफ ड्यूटी एक्टिविजन अमेरिका की एक्टिविजन ब्लिजार्ड (Activision Blizzard) की सब्सिडियरी कंपनी है। ऐसे में इन दोनों गेम्स के साथ चीन का सीधा और 100 फीसदी कनेक्शन नहीं है। इसके साथ ही संयुक्त मालिकाना हक के कारण इन दोनों एप्स पर बैन नहीं लगाया गया है, जबकि  सरकार ने इन दोनों एप्स को लेकर अभी तक कोई बयान जारी नहीं किया है। इन दोनों एप्स से सर्वर भी भारत में लाइव हो चुके हैं और काम कर रहे हैं।

Redmi K30 Ultra होने वाला है रेडमी का पॉप-अप सेल्फी कैमरा वाला स्मार्टफोन

Lenovo का ये स्मार्टफोन जल्द मार्केट में होगा लॉन्च, Google Play Console पर हुआ स्पॉट

Realme C3 के लिए आया नया सॉफ्टवेयर अपडेट, मिलेंगे नए ऑप्शन