प्रोटीन पाउडर वजन बढ़ाने में फ़ैल क्यों हो जाता है? जानिए

प्रोटीन पाउडर वजन बढ़ाने में फ़ैल क्यों हो जाता है? जानिए

अक्सर लोग यह शिकायत करते है कि प्रोटीन पाउडर या वेट गेनर का लगातार उपयोग करने के बाद भी कोई खास फर्क नहीं पड़ा. आज हम आपको बताते हैं कि क्‍यूं ये पाउडर असर नहीं करते और कैसे आप इसे असर करने पर मजबूर कर सकते हैं.

अगर आपने असली पाउडर लिया है तो वो अपना काम करेगा, पर शर्त है कि आप उसे करने दें. हमारी सबसे बड़ी गलती ये होती है कि प्रोटीन पाउडर को शरीर की रोजमर्रा की जरूरतों में ही खर्च कर देते हैं. आपने शायद गौर किया हो लगभग हर डिब्‍बे के ऊपर लिखा होता है टेक इट बिटविन मील्स. यानी दो भोजन के बीच में इसे लें. इसका सीधा सा मतलब होता है कि न तो पाउडर को खाली पेट लिया जाता है और न ही पाउडर लेने के बाद ज्‍यादा देर तक बिना भोजन रहते हैं.

अगर खाली पेट या बिना उम्‍दा डाइट लिए प्रोटीन पाउडर या गेनर वगैरा लगेंगे तो वो मसल्‍स बनाने या गेनिंग का काम नहीं करेंगे वो आपकी भोजन की जरूरत को पूरा करने में लग जाएंगे. शरीर की आंखें नहीं होती उसे एनर्जी चाहिए आप उसे कार्ब्‍स या फैट देंगे तो वो उनसे एनर्जी लेगा आप उसे प्रोटीन देंगे तो वो उसे भी एनर्जी भी बदल देगा, जबकि प्रोटीन से आपको मसल्‍स बनाने का काम लेना चाहिए और कार्ब्‍स और फैट से अपने शरीर की एनर्जी की जरूरतों को पूरा करना चाहिए.

अगर आप सुबह जिम करते हैं जो जिम से पहले हमेशा उम्दा कार्बोहाड्रेट खाएं. आपको यह पता होना चाहिए कि जिम करने से कितनी देर पहले क्या खाना चाहिए. जिम के बाद आप प्रोटीन पाउडर या गेनर लें तो उसे पानी में लेने की बजाए दूध या छाछ या जूस में लें या फिर केले वगैरा डालकर शेक बना लेंगे तो और अच्‍छा रहेगा. इसके अलावा प्रोटीन पाउडर लेने के बाद डटकर नाश्‍ता भी करें. वैसे तो बॉडी बिल्‍डिंग में एक वक्‍त वो भी आता है जब हमें प्रोटीन पाउडर पानी में ही लेना होता है और डाइट भी कम रखनी होती है मगर वो वक्‍त तीसरी स्‍टेज पर आता है शुरू में कतई नहीं.