इंद्रधनुषी झंडे से ये है समलैंगिकता का कनेक्शन? आप भी जान लीजिये

Sep 07 2018 09:37 AM
इंद्रधनुषी झंडे से ये है समलैंगिकता का कनेक्शन? आप भी जान लीजिये

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध ना बताकर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है जिसके बाद देशभर में ख़ुशी का माहौल छाया हुआ था. बीते कई सालों से समलैंगिकता को लेकर विरोध हो रहे थे जिसके बाद LGBT समुदाय के हित में फैसला आने से हर कही खुशी की लहर दौड़ पड़ी थी. इस समुदाय के लोग अपनी ख़ुशी को जाहिर करने के लिए सडकों पर उतर आए थे और खूब डांस भी कर रहे थे. सोशल मीडिया पर भी इंद्रधनुषी रंग का झंडा ही वायरल हो रहा है. आम जनता से लेकर बॉलीवुड सेलेब्स तक भी सभी लोग इंद्रधनुषी रंग के झंडे को शेयर कर LGBT समुदाय को बधाई दे रहे हैं.

सभी तस्वीरों में आपको एक ही कॉमन झंडा नजर आ रहा होगा. लेकिन शायद इस झंडे को देखकर आपके भी मन में ये सवाल तो आया ही होगा कि LGBT समुदाय के हाथों में हमेशा ये रंग-बिरंगा इंद्रधनुषी झंडा ही क्यों रहता है? और आखिर क्यों इस समुदाय के लोगों के कपड़े उनके हाथ, चेहरे पर भी इंद्रधनुषी झंडे ही छपे होते है? तो चलिए हम आपको इन सभी सवालों के जवाब दे ही देते हैं....

क्या है इंद्रधनुषी झंडे का इतिहास-

इंद्रधनुषी झंडे को समलैंगिकता का प्रतीक माना जाता है.अमेरिका के रहने वाले गे अधिकारों के एक्टिविस्ट गिलबर्ट बेकर ने साल 1978 में इस इंद्रधनुषी झंडे का निर्माण किया था. उस समय समलैंगिक समुदाय के नेता हार्वे मिल्क थे और उन्होंने ने ही गिलबर्ट को यह प्रतिक चिन्ह बनाने को कहा था. गिलबर्ट को इंद्रधनुषी रंग के झंडे बनाने की प्रेणना कुदरत से मिली थी. दरअसल उनका ऐसा मानना था कि जब प्रकृति खुद ही अपने आसमान में इस रंग का झंडा फहराती है तो फिर क्यों ना किसी का प्रतिक चिन्ह ही बना दिया जाए. इसके बाद गिलबर्ट अलग-अलग रंग की पट्टियों को एक जोड़ते गए और ये झंडा बनकर तैयार हो गया. उनका मानना था कि ये रंग-बिरंगा झंडा एक साथ सभी समलैंगिक लोगों को सूत्र में पिरोएगा.

शुरुआती दौर में तो गिलबर्ट ने इस झंडे में आठ रंगो को जगह दी थी लेकिन फिर बाद में इसमें से दो रंगो को हटाकर 6 रंगो वाला झंडा बना दिया. इस झंडे में गुलाबी, लाल, पीला. हरा, केसरिया और फिरोजी रंग जैसे रंग शामिल हैं.

गूगल और फेसबुक ने भी मनाई समलैंगिक यौन संबंध जायज होने की ख़ुशी

समलैंगिक समुदाय ने देश भर में मनाया जश्न, संयुक्त राष्ट्र ने भी सराहा अदालत का निर्णय

समलैंगिक समुदाय की शीर्ष तीन याचिकाएं, जिनके आगे नतमस्तक हुई धारा 377

?