शेर जंगल का राजा क्यों है, बाघ उससे ज्यादा शक्तिशाली क्यों नहीं है?

शेर जंगल का राजा क्यों है, बाघ उससे ज्यादा शक्तिशाली क्यों नहीं है?
Share:

हम सभी जानते हैं कि शेर को जंगल का राजा माना जाता है। हालांकि, बाघ की तुलना में शेर कम शक्तिशाली दिखाई देता है। बाघ, जो हमारा राष्ट्रीय पशु भी है, शेर से कहीं ज़्यादा तेज़ और फुर्तीला होता है।

बाघ 56 से 64 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकता है, जबकि शेर 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकता है। इसके बावजूद शेर को जंगल का राजा कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि शेर एक प्राचीन जानवर है जो सदियों से धरती पर मौजूद है।

शेर एक सामाजिक जानवर है और प्राचीन काल से ही इसे जंगल का राजा माना जाता रहा है। इसके पीछे एक कारण यह भी है कि शेर की दहाड़ इतनी शक्तिशाली होती है कि जंगल के सभी जानवर कांप उठते हैं। इसके विपरीत बाघ की दहाड़ का उतना प्रभाव नहीं होता।

इसके अलावा, बाघ बहुत आक्रामक जानवर है, जबकि शेर उतना खूंखार नहीं होता। जब राजा चुना जाता है, तो इन सकारात्मक गुणों को ध्यान में रखा जाता है। यही कारण है कि शेर, अपनी राजसी दहाड़ और नेक व्यवहार के कारण जंगल का राजा माना जाता है।

रक्तदान करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल

क्या आप भी Google पर ढूंढते हैं हर बीमारी का इलाज? तो हो जाए सावधान वरना भुगतना पड़ सकता है भारी परिणाम

अगर आपके शरीर पर टैटू है तो रक्तदान करने से पहले बंद कर दें, बढ़ सकता है इन बीमारियों का खतरा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -