आखिर 15 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है इंजीनियर्स डे, जानिए इसका इतिहास

हिन्दुस्तान में प्रत्येक वर्ष 15 सितंबर को अभियंता दिवस (इंजीनियर्स डे) के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। दरअसल, इसी दिन हिन्दुस्तान के महान अभियंता और भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म हुआ था। वह हिंदुस्तान के महान इंजीनियरों में से एक थे। उन्होंने ही आधुनिक भारत की रचना की और देश को एक अलग ही रूप प्रदान किया। उन्होंने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में असाधारण योगदान भी दिया, जिसे शायद ही कोई भुला न पाए। इतना ही नहीं वह देशभर में बने कई बांध और पुलों का निर्माण करने में कामयाब रहे । उन्हीं की वजह से देश में पानी की समस्या दूर हुई थी।

अभियंता दिवस का इतिहास: इंडियन गवर्नमेंट द्वारा वर्ष 1968 में डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जन्म दिनांक को 'अभियंता दिवस' का एलान किया गया था। जिसके उपरांत प्रत्येक वर्ष 15 सितंबर को अभियंता दिवस सेलिब्रेट किया जाने लगा। दरअसल, 15 सितंबर 1860 को विश्वेश्वरैया का जन्म मैसूर (कर्नाटक) के कोलार जिले में हुआ था। एक इंजीनियर के रूप में डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया ने देश में कई बांध का निर्माण करने में योगदान दिया हैं, जिसमें मैसूर में कृष्णराज सागर बांध, पुणे के खड़कवासला जलाशय में बांध और ग्वालियर में तिगरा बांध आदि अहम् हैं। सिर्फ यही नहीं, हैदराबाद सिटी को बनाने का पूरा श्रेय डॉ. विश्वेश्वरैया को जीत लिया था। उन्होंने वहां एक बाढ़ सुरक्षा प्रणाली तैयार की थी, इसके उपरांत पूरे भारत में उनका नाम हो गया। उन्होंने समुद्र कटाव से विशाखापत्तनम बंदरगाह की सुरक्षा के लिए एक प्रणाली विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका रोल निभाया था। 

इस बारें में शायद ही आप सभी को पता होगा कि विश्वेश्वरैया को मॉडर्न मैसूर स्टेट का पिता भी बोला जाता था। उन्होंने मैसूर गवर्नमेंट के साथ मिलकर कई फैक्ट्रियों और शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना की थी, जिसमें मैसूर साबुन फैक्ट्री, मैसूर आयरन एंड स्टील फैक्ट्री, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, मैसूर चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स और विश्वेश्वरैया कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग प्रमुख रूप से बसा हुआ हैं।

भारत के अलावा इन देशों में मनाया जाता है अभियंता दिवस: हम बता दें कि अभियंता दिवस सिर्फ भारत में ही नहीं सेलिब्रेट किया जाता बल्कि कई अन्य देशों में भी यह दिवस को धुमभाम से मनाया जाता है। जैसे कि- अर्जेंटीना में 16 जून को, बांग्लादेश में 7 मई को, इटली में 15 जून को, तुर्की में 5 दिसंबर को, ईरान में 24 फरवरी को, बेल्जियम में 20 मार्च को और रोमानिया में 14 सितंबर को अभियंता दिवस के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। दरअसल, यह दिवस विश्वभर के इंजीनियरों को प्रोत्साहित करने के लिए सेलिब्रेट किया जाता है, ताकि वो देश-दुनिया को अपने हुनर की बदौलत तरक्की की नई राह पर लेकर जाना है। 

नालंदा यूनिवर्सिटी जलाने वाले आततायी के नाम पर शहर क्यों ? 'बख्तियारपुर' का नाम बदलने की मांग तेज़

राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने कहा- ब्रिक्स से दक्षिण अफ्रीका को हुआ फायदा

ज्ञानी जेल सिंह की मौत एक 'हादसा' या सुनियोजित योजना ? जानिए भाजपा ज्वाइन कर क्या बोले पोते इंद्रजीत

- Sponsored Advert -

Most Popular

मुख्य समाचार

- Sponsored Advert -