आखिर भारत की 'कोरोना वैक्सीन' को मान्यता क्यों नहीं दे रहा ब्रिटेन ?

नई दिल्ली: भारत में प्रमुख तौर पर दो कोरोना वैक्सीन से टीकाकरण किया जा रहा है. इसमें कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों शामिल हैं. किन्तु कोरोना वैक्सीन लगवाकर ब्रिटेन जाने का प्लान बना रहे लोगों को बड़ा झटका लगा है. UK (इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और नॉर्दर्न आयरलैंड शामिल) की ओर से नई गाइडलाइंस (uk india flight guidelines) जारी की गई हैं, जिनको 4 अक्टूबर से लागू होना है. इसमें भारत के दोनों ही कोरोना टीकों को मान्यता नहीं दी गई है.

हद तो ये है कि कोविशील्ड जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है, वही वैक्सीन, ब्रिटेन में एस्ट्राजेनिका-ऑक्सफोर्ड के नाम से लगा रही है. इसके बाद भी ब्रिटेन ने कोविशील्ड को मान्यता नहीं दी गई है. फिलहाल ब्रिटेन ने जो नियम बनाए हैं, उनके अनुसार, कोविशील्ड और कोवैक्सीन की वैक्सीन लगवाने लोगों को 'अनवैक्सिनेटेड' ही माना जाएगा. मतलब उनको वे सब शर्तें माननी होंगी, जो टीका नहीं लगवाने वाले को पूरी करनी हैं. वैसे भारत में स्पूतनिक का भी कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही है, किन्तु सूची में उसे भी मान्यता नहीं मिली है.
 
बता दें कि ब्रिटेन ने अपने आदेश में कहा है कि भारत के साथ-साथ थाईलैंड और अफ्रीका जैसे अन्य कई देशों से आने वाले पूरी तरह वैक्सीनेटेड पैसेंजर्स को भी 10 दिन तक क्वारंटाइन रहना पड़ेगा. इसके साथ ही कई बार RT-PCR टेस्ट भी कराना होगा. वैसे ये नियम पहले से लागू है, भारत को अब छूट की उम्मीद थी, किन्तु ऐसा नहीं हुआ. 

संयुक्त राष्ट्र के ‘वैश्विक लक्ष्य’ कार्यक्रम में विश्व नेताओं के लिए प्रदर्शन करेगा बीटीएस

देश में 81 करोड़ से अधिक लगाई गईं कोरोना की वैक्सीन

भारत को अक्टूबर माह में मिल सकती है सिंगल डोज़ कोरोना वैक्सीन, टीकाकरण को मिलेगी रफ़्तार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -