आखिर क्यों टूट जाता हैं प्यार में दिल? जानिए

आखिर क्यों टूट जाता हैं प्यार में दिल? जानिए

प्यार नाम का कीड़ा जब किसी को काटता हैं तो दर्द नहीं होता. इंसान आनंदरुपी सागर में गौते लगाता फिरता हैं. सब कुछ अच्छा लगने लगता हैं. जिंदगी जीने का एक मकसद मिल जाता हैं. लेकिन जब इसी प्यार में दिल टूट जाता हैं तो दर्द इतना ज्यादा होता हैं कि सब कुछ बेकार सा लगने लगता हैं. ना कुछ खाने का मन करता है. ना कुछ पिने का. लेकिन सवाल यह उठता है कि यह दिल आखिर टूटता क्यों हैं? अगर यह ना टूटता तो यह असहनीय दर्द भी ना पैदा हो. इसी बात का पता हमने लगा लिया हैं. आज हम प्यार में दिल टूटने के कारणों पर रौशनी डालेंगे. 

1. कम उम्र में शादी हो जाना:

कम उम्र में शादी हो जाने से इंसान जिंदगी के मज़े अच्छे से नहीं ले पाता हैं और अचानक से उस पर जिम्मेदारियों का बोझ आजाता हैं. इस जिम्मेदारी को निभाने में हर कोई सक्षम नहीं होता हैं और लड़ाई झगडे होने लगते हैं. जिसके चलते अंत में यह रिश्ता टूट जाता है.

2. माता पिता के दबाव में शादी होना:

दोनों पक्षों में प्यार का पनपना अतिआवश्यक होता हैं. लेकिन जब लड़का लड़की की मर्जी के बिना माता पिता उनकी शादी करवा देते हैं तो यह आगे चलकर टूटे रिश्तों का कारण बनता हैं. 

3. विचारों का ताल मेल ना हो पाना:

जीवनरुपी रेलगाड़ी को पटरी पर लगातार चलाने के लिए पति पत्नी के विचारों का आपस में मेल खाना बहुत जरूरी होता है. जब यह विचार एक दूसरे से ज्यादा अलग होते हों तो रिश्तों की यह रेलगाड़ी पटरी से उतर जाती हैं. 

4. खुद को परिस्थिति में ढाल ना पाना:

जब लड़की कई सालों तक अपने घर में रहने के बाद अचानक से एक दिन नए परिवार में जाती हैं तो उसके लिए वहां की लाइफस्टाइल काफी अलग होती हैं. इस लाइफस्टाइल में कुछ लडकिया खुद को ढाल लेती हैं जबकि कुछ इसे पूरी तरह से नकार कर रिश्ता तोड़ने की कगार पर आकर खड़ी हो जाती हैं. 

5. शारीरिक संबंधों से असंतुष्टि:

जब लड़का या लड़की एक दूसरे को शारीरिक रूप से संतुष्ट नहीं कर पाते है तो उनके रिश्तों में दरारे आना शुरू हो जाती हैं. और आगे चलकर यह दरारे किसी एक्स्ट्रा अफेयर की वजह से और भी बड़ी हो जाती हैं. जो अंत में इस रिश्ते को दफ़न कर देती हैं.