परिवार ने क्यों किया अंतिम संस्कार करने से मना ?

पुलिस एनकाउंटर में मारे गए कथित पशु-तस्कर तालिम का शव परिवार वाले लेने से इंकार कर रहे है. पुलिस ने कहा है कि यदि कल तक शव नहीं लिया गया तो हम अंतिम सस्कार कर देंगे. परिवार का कहना है कि पहले मामले की जांच हो. गुरुवार को तालिम का परिवार अपने पैतृक स्थान हरियाणा के नूह वापस लौट गया था. 24 वर्षीय तालीम गुरुवार को पुलिस मुठभेड़ में मारा गया. तालिम का शव अलवर सरकारी अस्पताल के शवगृह में रखा हुआ है.

ऑल इंडिया मेवाती समाज के अध्यक्ष रमजान चौधरी भी तालिम के परिवार वालों के साथ अस्पताल पहुंचे थे. उन्होंने मांग की थी कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि तालिम के रिश्तेदार जब तक जांच नहीं होगी, उसका शव लेने वापस नहीं आएंगे. इसके बाद अलवर के एसपी राहुल प्रकाश ने कहा, 'अगर तालिम के परिवार वाले उसका शव नहीं लेकर जाते हैं तो प्रशासन उनका अंतिम संस्कार कर देगा.

तालिम अपने अन्य साथियों के साथ अलवर से अवारा पशुओं को पिकअप में भरकर ले जा रहा था. जब पुलिस ने उनकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी. पुलिस ने अन्य फरार पांच-छह लोगों को ढूंढ़ने के लिए अपनी टीम हरियाणा और राजस्थान के अन्य स्थानों पर भेजी है. तालिम के साथी उसे वहीं पर घायल अवस्था में छोड़कर फरार हो गए थे.

यहाँ क्लिक करे 

जानें किस जानवर को रोटी खिलाने से दूर होगी किस प्रकार की समस्या

सुबह होते ही न लें इस जानवर का नाम वरना..

यह मशीन कर देगी आपके पेट्स की पॉटी साफ़

केरल जाकर एन्जॉय करे विंटर वेकेशन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -