इसलिए नहीं आते बच्चों की आँखों में आंसू

इसलिए नहीं आते बच्चों की आँखों में आंसू

देखा गया है जब बच्चे जन्म लेते हैं तो कुछ महीनों तक उनकी आँखों से आंसू नहीं निकलते. यानि वो जब भी रोते हैं तो उनकी आँखों से आंसू नहीं आते हैं. आपको आज इसी का कारण बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपको भी नहीं पता होगा. इसके पीछे भी कई कारण हैं. आइये जानते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें, टियर डक्ट एक ऐसी पाइपलाइन होती है जो लैक्रिमल ग्लैंड (Lacrimal Gland) से आंसू लेकर आते हैं. ये लैक्रिमल ग्लैंड  बादाम के आकार की दो थैलियां सी होती हैं. जो हमारी आंख के कोने से नाक को छूते हुए जाती है. और इसी में आंसू बनते हैं.

इसी के चलते नवजात बच्चों की आंखों में लैक्रिमल ग्लैंड्स से आँखों तक लाने वाली थैलिया उनके जन्म के एक महीने के बाद से बनना चालू होते हैं. इसलिए वो जब भी रोते हैं तो उनकी आँखों से आंसू नहीं निकलते. किसी किसी बच्चे में ये लैक्रिमल ग्लैंड बनने के लिये तीन महीने तक का भी समय लग सकता है. नवजात बच्चों में लैक्रिमल ग्लैंड  बनने का समय 1 से 3 साह के बीच का होता है पर कई बार तो 6 माह के बच्चों के रोते हुए समय भी आंसू नही बहते. किसी किसी में 6 महीने तक का समय भी लग जाता है. इसके पीछे का प्रमुख कारण डीहाइड्रेशन या अश्रु वाहिनी में किसी तरह की समस्या का होना होता है. 

ऐसे में इन बच्चों को अधिक पानी व अधिक लिक्विड वाली चीजों को डाइट में देना चाहिये. यदि बच्चे की अश्रु वाहिनी(टियर डक्ट्स) में कोई ब्‍लॉकेज है और उसकी आंखों से किसी तरह का पीला पदार्थ निकल रहा है. तो आपको इस समस्या के लिये तुरंत चाइल्ड स्पेशलिस्ट से संपर्क करना चाहिये.

ऐसे हुई Kiss की उतपत्ति, जानवर भी करते हैं किस

महिला को हुई ऐसी विचित्र बीमारी जिसमे नहीं सुनाई देती मर्दों की आवाज

महिला ने 110 साल पुराने पेड़ के अंदर बनाई लाइब्रेरी, तस्वीरें देखकर आप भी कहेंगे 'वाह'