भारत में फुल लॉकडाउन पर WHO ने दी यह सलाह

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) ने हाल ही में एक बयान में यह कहा है कि, 'भारत में कोरोनावायरस की तीसरी लहर के मामले बढ़ने के बावजूद फिलहाल फुल लॉकडाउन लगाने की जरूरत नहीं है।' आप सभी को बता दें कि डब्ल्यूएचओ के भारत में प्रतिनिधि रॉड्रिको एच। ऑफ्रिन का कहना है कि 'भारत जैसे देश में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए फुल लॉकडाउन लगाने और ट्रैवल बैन करने जैसे कदम नुकसान पहुंचा सकते हैं।'

इसी के साथ उन्होंने यह सुझाव दिया है कि महामारी से लड़ने के लिए रिस्क के हिसाब से बैन लगाने की स्ट्रैटजी बनानी चाहिए। आप सभी को बता दें कि ऑफ्रिन ने जान और रोजगार दोनों को बचाने पर जोर देते हुए भी यह कहा है कि, 'जान और रोजगार, दोनों ही बचाना जरूरी है। भारत और दुनियाभर में पब्लिक हेल्थ एक्शन तय करने के लिए 4 सवालों के जवाब जानने चाहिए। ये 4 सवाल हैं- वैरिएंट कितना संक्रामक है। उससे कितनी गंभीर बीमारी होती है। वैक्सीन और पिछले कोरोना इन्फेक्शन कितना प्रोटेक्शन दे रहे हैं। आम लोग खतरे को कैसे देखते हैं और इसे रोकने के उपायों को कैसे फॉलो करते हैं।'

इसके अलावा ऑफ्रिन ने बताया कि, 'डब्ल्यूएचओ पूरी तरह से ट्रैवल बैन लगाने या लोगों का मूवमेंट रोकने का सुझाव नहीं देता है। ऐसे बैन लगाने से फायदे से ज्यादा नुकसान होता है। भारत जैसे देश में जहां आबादी के बंटवारे में इतनी विविधता है, वहां महामारी से लड़ने के लिए रिस्क-बेस्ड अप्रोच को फॉलो करना समझदारी लगती है।' इसी के साथ आगे उन्होंने कहा, 'मौजूदा हालातों, हेल्थ सेक्टर की क्षमताओं और सामाजिक-आर्थिक परिदृश्य को देखते हुए सरकार को महामारी रोकने के लिए उपाय तैयार करने चाहिए। अगर सभी नियमों का पालन किया जाएगा तो लॉकडाउन लगाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।'

वहीं दूसरी तरफ विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के ऑनलाइन दावोस एजेंडा 2022 शिखर सम्मेलन में 'मीटिंग द चैलेंजेंज ऑफ वैक्सीन इक्विटी' पर एक पैनल चर्चा में नेताओं ने कहा कि कोविड-19 रोधी टीकों का तेजी से विकास एक वैज्ञानिक उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि हालांकि सार्वभौमिक वैश्विक वितरण करने में विफलता से न केवल खराब स्वास्थ्य स्थिति उत्पन्न होती है, बल्कि यह आर्थिक उथल-पुथल और भू-राजनीतिक तनाव का भी कारण बनती है। वहीं इस दौरान डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपातकाल कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक माइकल रयान ने कहा कि 'इस महामारी को टीके के बिना समाप्त करने का कोई तरीका नहीं है, टीका इसके खिलाफ लड़ाई की मुख्य केंद्रीय रणनीति है।'

Omicron के बीच कोविड-19 के इलाज के लिए WHO ने दी 2 नई दवाएं

Omicron Diet: ओमिक्रॉन से बचने के लिए क्या खाएं और क्या नहीं, WHO ने बताया

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि वर्तमान वैक्सीन बूस्टर खुराक पर्याप्त नहीं हो सकती है

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -