इस कारण होते है त्वचा पर सफेद दाग, ऐसे हो सकते है दूर

आपको बता दें सफेद दाग या विटिलिगो चमड़ी के रोग की एक किस्म है जिससे त्वचा पर सफेद दूधिया निशान पड़ जाते हैं। पुरुषों, महिलाओं और बच्चों सहित देश की करीब दो फीसद आबादी इस रोग से पीड़ित है। त्वचा रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि जब हमारे शरीर की रंग पैदा करने वाली कोशिकाएं काम करना बंद कर देती हैं तो दूधिया या सफेद रंग के दाग बनने शुरू हो जाते हैं जो बाद में पूरे शरीर में फैल जाते हैं। 

दांतों की झनझनाहट कर रही परेशान, तो ऐसे पाएं निजात

इन कारण होते है दाग 

जानकारी के लिए आपको बता दें चमड़ी के अन्य रोगों की तरह ही इसके साथ जुड़ा सबसे बड़ा मसला है मनोस्थिति का। भेदभाव, कुष्ठ रोग की भ्रांति, सामंजस्य की कमी और लोगों की असंवेदनशील बातें मरीज को सामाजिक तौर पर शर्मिंदगी का अहसास कराती हैं, जबकि यह न तो छूत का रोग है और न ही जानलेवा है। इस बीमारी में न कोई दर्द होता है और न ही मानसिक या शारीरिक क्षमता पर कोई असर पड़ता है। 

पिम्पल, हेयर्स और स्किन के लिए बहुत फायदेमंद हैं अमरुद के पत्ते
 
यह है इसे दूर करने के उपाय 

प्राप्त जानकारी के अनुसार त्वचा रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि यह रोग भारत की बड़ी आबादी को प्रभावित करता है। हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि त्वचा में रंग बनने की प्रक्रिया काम करना क्यों बंद कर देती है। लेकिन कुछ तथ्य हैं जो जिम्मेदार हो सकते हैं। इनमें जेनेटिक्स, रोग प्रतिरोधक क्षमता में गड़बड़ी और तनाव की वजह से प्रतिक्रिया आदि शामिल हैं। चमड़ी का जख्मी होना और गंभीर सनबर्न होने से भी निशान बन सकते हैं।

फिर बिगड़ी सिंगर सोनू निगम की तबियत, नेपाल के अस्पताल में भर्ती

तरबूज़ के साथ उसके बीज कभी करें सेवन, होंगे ये फायदे

सोशल मीडिया पर दिनभर बिताते हैं समय तो हो गए हैं आप बीमार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -