भारत में Omicron का पीक कब आएगा ? मेदांता के डॉ त्रेहन ने दिया जवाब

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का नया वेरिएंट Omicron भारत में एंट्री कर चुका है. Omicron का ट्रांसमिशन रेट भारत में दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वेरिएंट से तीन गुना अधिक है. यानी ये वायरस तीन गुना तेजी से लोगों को चपेट में ले सकता है. वायरस कब अपने चरम पर होगा और इसका खतरा कब तक टल सकता है? इस पर मेदांता के मुख्य डॉक्टर नरेश त्रेहन ने विस्तार से जानकारी दी है.

डॉक्टर त्रेहन ने कहा है कि, 'देश में आई पिछली दो लहरों से हमें सबक लेना चाहिए. पहली और दूसरी लहर के बीच में लगभग 32 सप्ताह का फासला था. पहली लहर के बाद लोग ये मान चुके थे कि वायरस अब समाप्त हो गया है, किन्तु दूसरी लहर में ये अधिक भयंकर होकर लौटा. इसलिए लोगों को ये समझना चाहिए कि जब तक वायरस का खतरा पूरी तरह टल नहीं जाता, तब तक सतर्क रहें.'

डॉ. त्रेहन ने कहा कि, 'ऐसा अनुमान जताया जा रहा है कि ये वायरस सितंबर-अक्टूबर से ही फैल रहा है, किन्तु इसका कोई प्रमाण नहीं है.' डॉ. त्रेहन ने कहा कि यदि हम 'सूत्रा मॉडल' से देखें, जिसे पहली और दूसरी लहर के दौरान भी अप्लाई किया गया था तो नया वैरिएंट जनवरी के पहले या दूसरे हफ्ते में चरम पर होगा. ऐसी भी संभावनाएं हैं कि ये लहर फरवरी तक ख़त्म हो जाएगी. हालांकि, ये कितनी ऊपर जाएगी, ये हमारे व्यवहार पर निर्भर करता है.

एआईसीएफ ने 2022 के लिए 13 अंतरराष्ट्रीय शतरंज टूर्नामेंटों का कार्यक्रम निर्धारित किया

NIT Trichy ने निकाली विभिन्न पदों पर निकाली बंपर भर्तियां, जानिए आवेदन की प्रक्रिया

दर्दनाक: आगरा-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर ट्रालों के बीच भयानक टक्कर, 3 की मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -