मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन आज, जानिए उनके सियासी करियर से जुड़े विवाद

नई दिल्ली: मुलायम सिंह यादव एक ऐसा नाम जो एक दौर में उत्तर प्रदेश की सियासत का केंद्र हुआ करता था. वर्ष 1939 में आज ही के दिन यानि 22 नवम्बर को इटावा जिले के छोटे से गांव सैफई (Saifai) में जन्में मुलायम सिंह ने एक सामान्य से परिवार से निकलकर पूरे यूपी की सियायत में अपना दबदबा जमाया. यूपी में नेताजी के नाम से मशहूर मुलायम की सियासी यात्रा उनके कामों से ज्यादा विवादों के लिए जानी जाती है. वह तीन बार उत्तर प्रदेश के CM बने, एक बार देश के रक्षामंत्री भी बने, पर हर बार उनके विवादित बयान और विवादित काम उनके इर्द गिर्द घूमते रहे. उनके कुछ ऐसे ही विवाद आज उनके जन्मदिन पर हम आपको बताने जा रहे हैं, जो उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश की सियासत में भी चर्चा में रहे.   

जब कारसेवकों पर चलवाई थी गोली:-

30 अक्टूबर 1990 को अयोध्या में कारसेवा के लिए हजारों रामभक्त जुटे थे. इस दौरान मुलायम सिंह यादव यूपी के सीएम थे. विश्व हिन्दू परिषद् (विहिप) के इस कार्यक्रम से बौखलाए मुलायम सिंह यादव ने जबरदस्त सख्ती का आदेश दे दिया. कारसेवकों ने जब राममंदिर की ओर बढ़ना शुरू किया तो पुलिस ने पहले उन पर लाठीचार्ज किया और फिर बाद में मुलायम के आदेश के बाद रामभक्तों पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी गई. इसमें सैकड़ों कारसेवकों की मौत हो गई थी और कई जख्मी हुए थे. बाद में 6 फरवरी 2014 को मैनपुरी जिले में आयोजित एक जनसभा में मुलायम सिंह यादव ने स्वीकार किया था कि उनके ही आदेश पर 1990 में पुलिस ने अयोध्या में कार सेवकों पर फायरिंग की गई थी. वहीँ, इस आदेश के बाद लोगों ने मुलायम सिंह को मुल्ला मुलायम कहना शुरू कर दिया था.  रामभक्तों पर गोली चलवाने की घटना के बाद 1991 में हुए विधानसभा चुनावों में मुलायम सिंह बुरी तरह पराजित हुए और भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने में कामयाब हुई थी. 

'लड़के हैं, गलती हो जाती है':-

समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव तब विवादित बयान देकर निशाने पर आ गए जब मुरादाबाद में आयोजित की गई एक रैली में मुलायम ने कहा कि बलात्‍कार के मामलों में फांसी की सजा देना अनुचित है. लड़के हैं लड़कों से गलतियां तो हो जाती हैं. मुलायम ने कहा था कि दुष्कर्म के मामलों में फांसी नहीं होनी चाहिए. लड़कों से गलती हो जाती है और इसके लिए फांसी नहीं दी जानी चाहिए. उन्होंने कहा था कि कभी-कभी फंसाने के लिए भी लड़कों पर इल्जाम लगा दिया जाते हैं. लड़कों से गलतियां हो जाती हैं. ऐसे कानूनों को बदलने की आवश्यकता है. मुलायम सिंह यादव का यह बयान उस समय पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था.

‘सबसे भ्रष्ट विधायक को बनाया मंत्री, मैं इस्तीफा दे सकता हूं’: कांग्रेस विधायक

जानिए क्यों मुलायम सिंह को कहा जाने लगा था मुल्ला मुलायम

राजस्थान कैबिनेट में बदलाव से नाराज विधायक, बोले- 'उसे मंत्री बनाया तो कांग्रेस साफ'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -