जब एक लड़का रेप का शिकार होता है .....!

आज देश में महिलाओ या लड़कियों की सुरक्षा को लेकर हर तरफ सवाल उठाये जा रहे है. यही कहा जा रहा है कि देश में अब कोई महिला सुरक्षित नहीं है, हर तरफ अत्याचार बढ़ता ही जा रहा है. कही महिलाओ से छेड़छाड़ तो कहीं बलात्कार ही बाते सामने आती है. इसके लिए कही पुरुषों को तो कही इसके लिए महिलाओं को ही जिम्मेदार बताया जाता है  ऐसा लग रहा है जैसे लड़कियों का इस देश में सुरक्षित घूमना तो बिलकुल खत्म सा हो गया है। रेप के मामले तो हमारे देश में इतने बढ़ गए है कि हमने देश कि राजधानी को "रेप सिटी" तक नाम भी दे दिया है। 

लेकिन क्या अपने कभी इस बात पर ध्यान दिया है जिस तरह महिलाये रेप की शिकार हो रही है उसी तरह पुरुष भी रेप का शिकार हो सकता है आज ही मुम्बई हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से कहा है कि जिस तरह यौन शोषण के मामलों में महिलाओं को सरकार की ओर से मुआवजा दिया जाता है, वैसी ही इन मामलों में पीड़ित पुरुषों को भी मुआवजा मिलाना चाहिए. हाईकोर्ट जज वीएम कानाडे ने कहा कि महाराष्ट्र के रिमांड होम में लड़कों के साथ यौन शोषण के मामले बढ़ते जा रहे हैं. इसलिए इन पीड़ितों के लिए भी पुनर्वास की स्कीम बनाई जानी चाहिए. 

जज वीएम कानाडे ने महाराष्ट्र सरकार से पूछा कि ऐसे मामलों में लड़कों के लिए अलग से कोई स्कीम क्यों नहीं बनाई गई. उन्होंने सरकार को इस बारे में उचित कारवाई करने के लिए 2 हफ़्तों का समय दिया है. बता दें कि साल 2013 में सरकार ने हर्जाने की व्यवस्था के साथ बलात्कार पीड़ित महिलाओं के लिए 'मनोधैर्य' स्कीम लॉन्च की थी. हाल ही में शोलापुर के कवदास अनाथालय में हुए यौन शोषण मामले का जिक्र करते हुए कोर्ट ने कहा कि महिलाओं के साथ होने वाले यौन अपराधों पर जमकर हो-हल्ला होता है इससे महिलाओं के साथ इस तरह के मामलों में खासी कमी आई है. परन्तु इस तरह की कोई जागरूकता पुरुषों के साथ होने वाले दुष्कर्म के मामलों में नहीं दिखाई देती, जिससे इस तरह के अपराधों को बढ़ावा मिलता है. देखिए वीडियो में किस तरह एक लड़का रेप का शिकार होता है और जब पुलिस के पास शिकायत लेके जाता है तो क्या होता है 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -