कब है मौनी अमावस्या, जानिए शुभ मुहूर्त और नियम

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार माघ मास (Magh Month) 11वां महीना है। जी हाँ और इस महीने को दान पुण्य और पूजा पाठ के लिहाज से काफी उत्तम माना गया है। आप सभी को बता दें कि माघ मास की अमावस्या को माघी अमावस्या (Maghi Amavasya) के नाम से जाना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन मनु ऋषि का जन्म हुआ था, इस वजह से इसे मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) भी कहा जाता है। आप सभी को बता दें कि मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान (Ganga Snan) और व्रत का विशेष महत्व है। जी दरअसल ऐसी मान्यता है कि इस दिन गंगा स्नान करने से व्यक्ति के तमाम पाप धुल जाते हैं। वैसे इस बार मौनी अमावस्या 1 फरवरी को मंगलवार के दिन पड़ रही है। ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं इस दिन का शुभ मुहूर्त और मौनी अमावस्या के नियम।

मौनी अमावस्या के नियम- इस दिन सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर मन में व्रत का संकल्प लें और मौन धारण करके रखें। इस दौरान मन में प्रभु नारायण के नाम का जाप करें। वहीं अगर गंगा घाट पर नहीं जा सकते तो घर में पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान करें। ध्यान रहे स्नान से पूर्व गंगा जल को हाथ जोड़कर प्रणाम करें। वहीं स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र पहनें और सूर्य को जल में काले तिल डालकर अर्घ्य दें। अब इसके बाद नारायण की पूजा करें और मंत्रों का जाप करें। अंत में अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान करें।

रहे मौन- मौनी अमावस्या के दिन मौन रहने का मतलब है स्वयं के अंतर्मन में झांकना, ध्यान करना और प्रभु की भक्ति करना। केवल मुंह से मौन नहीं रहना है, बल्कि अपने अंतरमन को विचलित होने से बचाना है और प्रभु भक्ति में लगाना है। जी हाँ क्योंकि ऐसा करने से आपके अंदर सकारात्मकता आती है और आध्यात्मिकता का विकास होता है। ऐसे में अगर आप पूरे दिन मौन व्रत नहीं रख सकते तो सुबह के समय कम से कम सवा घंटे का मौन जरूर रखें और स्नान व दान मौन रहकर ही करें। ज्योतिष के अनुसार मौन रहकर स्नान और दान करने से इंसान के कई जन्मों के पाप मिट जाते हैं।

मौनी अमावस्या शुभ मुहूर्त- माघ अमावस्या तिथि की शुरुआत 31 जनवरी दिन सोमवार को दोपहर 02 बजकर 18 मिनट पर होगा और अगले दिन 01 फरवरी दिन मंगलवार को सुबह 11 बजकर 15 मिनट तक रहेगी। वहीं उदया तिथि के हिसाब से अमावस्या 1 फरवरी को होगी, हालाँकि स्नान और दान आदि के काम भी 1 फरवरी की सुबह किए जाएंगे।

सोमवती अमावस्या के दिन पितरों को प्रसन्न करने के लिए करें यह उपाय

घर में है कबूतर का घोसला तो बहुत लकी हैं आप, जानिए क्यों?

इस दिन-योग और तिथि को करेंगे शादी तो शत-प्रतिशत होगी सफल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -