+

जब नवजात को सर्दी हो जाये

जब नवजात को सर्दी हो जाये

ऋतू परिवर्तन का प्रभाव हर देह धारी  पर पड़ता है, पर नवजात शिशु के सन्दर्भ में सावधानी रखना बेहद ज़रूरी है.क्योंकि नवजात शिशु केवल नाक से सांस ले सकते हैं,वो हमारी तरह सर्दी होने पर मुंह से सांस नहीं ले सकते इसलिये सर्दी के कारण उनकी सेहत बिगड सकती है. यहां इस बीमारी से निपटने के लिए कुछ तरीके दिए गए हैं, हालांकि गंभीर स्थिति में डॉक्टर की सलाह लेना बेहतर होगा. फिर भी आप चाहे तो इन घरेलू उपचारों पर एक नज़र डाल सकते हैं.

आइये जाने की आकर जब नवजात को सर्दी हो जाये :-

1 अगर बच्चे को सर्दी हो गयी है तो माँ दूध हल्दी या दूध केसर खाये तो बच्चो को भी माँ के दूध से पोषण और अतिरिक्त गर्मी मिल सके.

2 माँ अपने आहार में तिल के लद्धू शामिल करे और लडू खाने के २ घंटे बाद बच्चे को दूध पिलाये.

3 बच्चों को जुकाम से निजात दिलाने में शहद काफी कारगर साबित होता है। आप चाहे तो गर्म पानी में तुलसी के कुछ पत्तों को उबाल कर उसमें शहद मिलाकर भी पिला सकते हैं

4 स्तनपान बच्चों के लिए अति महत्वपूर्ण है, खासकर जब वे बीमार हों. यह उन्हें अदभुत संतुलित पोषक-तत्वों की श्रृंखला प्रदान करता है. जोकि उन्हें संक्रमण से लड़ने और शीघ्र स्वस्थ होने में सहायता करते हैं. छः माह से कम आयु के शिशुओं को, सर्दी-खांसी से निजात दिलवाने के लिए, स्तनपान कराना चाहिए.

नवजात शिशु की देखभाल और सावधानियाँ