कोरोना वायरस : हल्के-फुल्के लक्षण नजर आने पर अपनाएं ये तरीके

Mar 26 2020 11:54 AM
कोरोना वायरस : हल्के-फुल्के लक्षण नजर आने पर अपनाएं ये तरीके

दुनिया भर में कोरोना वायरस उम्मीद से भी तेजी से फैल रहा है. वायरस ने देश में दशहत का माहौल फैला दिया है. लेकिन अधिकांश मामलों में हल्के-फुल्के या सामान्य लक्षण होते हैं, जिनमें अस्पतालों में भर्ती होने की जरूरत नहीं होती है. विदेश मीडिया  के अनुसार ऐसी स्थिति में घबराने की नहीं, बल्कि संयम और समझदारी से काम लेने की जरूरत है. आइए, जानते हैं कि यदि कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका हो या टेस्ट पॉजिटिव आए तो क्या करें और क्या न करें

अगर लगे संक्रमित है व्यक्ति 

सुरक्षित रखना होता है. इसलिए पहले ही फोन करें
आप परामर्श के लिए इमरजेंसी रूम को भी फोन कर सकते हैं
अस्पतालों में कोरोना संक्रमित रोगियों की देखभाल की एक व्यवस्था है
यदि आप में फ्लू जैसे लक्षण हों तो बीमार मानकर एहतियात बरतें और अपने डॉक्टर से संपर्क करें

इमरजेंसी रूम का उपयोग करते समय ध्यान रखे यह बात 

इमरजेंसी रूम रोगियों से भरा रहता है. डॉक्टर व्यस्त होते हैं. ऐसे में यह सुनिश्चित करें कि क्या वाकई आपको इसकी जरूरत है?

इमरजेंसी रूम में जाने से खुद से सवाल करें कि सामान्य स्थिति में कफ या बुखार होने पर क्या आप इमरजेंसी में जाते? संभवत: इसका जवाब होगा- ना. क्योंकि कफ, बुखार, गले खराब होना और नाक बहने की स्थिति अतीत में शायद ही इमरजेंसी वाली रही हो.

यदि ये लक्षण कोरोना वायरस के भी हों, तो भी अधिकांश मामले में यह इमरजेंसी का केस नहीं होता है. पहले अपने डॉक्टर को बुलाए.

श्रीनगर में 'कोरोना' से एक बुजुर्ग की मौत, देश में मरने वालों की संख्या हुई 12

तमिलनाडु को लगा बड़ा झटका, कोरोना के कहर में बढ़ा संक्रमण का आंकड़ा

कोरोना: बिना खाना-पानी के जमीन पर सोकर दिन काटने को मजबूर दुबई में फंसे भारतीय