'मस्तिष्क खाने वाला अमीबा' नेगलेरिया फाउलेरी क्या है? यह 5 साल की बच्ची के दिमाग में कैसे घुस गया और उसकी मौत का कारण बना

'मस्तिष्क खाने वाला अमीबा' नेगलेरिया फाउलेरी क्या है? यह 5 साल की बच्ची के दिमाग में कैसे घुस गया और उसकी मौत का कारण बना
Share:

केरल के मलप्पुरम जिले में एक दुखद घटना सामने आई है, जहाँ अमीबिक मेनिंगोएन्सेफेलाइटिस नामक एक अजीबोगरीब बीमारी ने 5 साल की बच्ची की जान ले ली है। यह बीमारी, मस्तिष्क का एक गंभीर संक्रमण है, जो दूषित जल स्रोतों में पाए जाने वाले अमीबा के कारण होता है।

घटनाओं की समयरेखा

सूत्रों के अनुसार, लड़की 1 मई को स्थानीय तालाब में नहाने गई थी। 10 मई तक उसे बुखार, सिरदर्द और उल्टी के लक्षण दिखने लगे। उसकी हालत तेजी से बिगड़ती गई, जिसके कारण उसे वेंटिलेटर सपोर्ट की जरूरत पड़ी, लेकिन मेडिकल उपचार से कोई सुधार नहीं हुआ।

मामले का विवरण

डॉक्टरों ने बताया कि यह संक्रमण तब होता है जब कोई व्यक्ति नाक के रास्ते दूषित पानी में मौजूद मुक्त-जीवित अमीबा के संपर्क में आता है। जिस तालाब में लड़की नहा रही थी, अब उसकी भी जांच की जा रही है, साथ ही वहां नहाने वाले अन्य बच्चों पर भी नजर रखी जा रही है। हालांकि अब उन्हें संक्रमण मुक्त घोषित कर दिया गया है, लेकिन उन्हें स्कूल से छुट्टी दे दी गई है।

नेगलेरिया फाउलरी के बारे में

आम भाषा में, नेगलेरिया फाउलेरी को मस्तिष्क खाने वाला अमीबा कहा जाता है। इस अमीबा के कारण भारत और दुनिया भर के अन्य देशों में पहले भी कई मौतें हो चुकी हैं। 97% मामलों में इस बीमारी को जानलेवा माना जाता है और इसे एक ऐसी बीमारी के रूप में वर्गीकृत किया जाता है जिसका इलाज नहीं किया जा सकता और जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है।

नेगलेरिया फाउलेरी कैसे फैलता है

नेगलेरिया फाउलेरी एक प्रकार का स्वतंत्र जीव है जिसे सहारे के लिए पारिस्थितिकी तंत्र की आवश्यकता नहीं होती है। यह दुनिया भर में झीलों, नदियों, तालाबों और गर्म जल निकायों सहित विभिन्न वातावरणों में पनप सकता है। संक्रमण तब होता है जब दूषित पानी नाक के मार्ग में प्रवेश करता है, जिससे अमीबा मस्तिष्क तक पहुँच जाता है और नुकसान पहुँचाता है। यह दुखद घटना अपर्याप्त जल स्वच्छता से जुड़े खतरों और ऐसे अमीबिक संक्रमणों से उत्पन्न जोखिमों के बारे में सार्वजनिक जागरूकता की आवश्यकता को उजागर करती है। अधिकारियों से भविष्य में इसी तरह की घटनाओं को रोकने के लिए उचित निगरानी और स्वच्छता उपाय सुनिश्चित करने का आग्रह किया जाता है।

इस महीने टाटा नेक्सॉन खरीदने का शानदार मौका, मिलेगा 1 लाख रुपये का डिस्काउंट

महिंद्रा स्कॉर्पियो एन Z8 सेलेक्ट ऑटोमैटिक का रिव्यू पढ़ें, कीमत पर बेस्ट डील!

देखें विनफास्ट वीएफ ई34 की पहली झलक, जानिए भारतीय बाजार में कब देगी दस्तक?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -