योग करने से कौन-कौन सी बीमारियां ठीक हो सकती हैं, इस पर क्या कहता है विज्ञान

योग करने से कौन-कौन सी बीमारियां ठीक हो सकती हैं, इस पर क्या कहता है विज्ञान
Share:

जून में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का उद्देश्य योग के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है, खासकर अस्वस्थ जीवनशैली और खराब आहार संबंधी आदतों की पृष्ठभूमि में। कहावत है, "योग बीमारियों को मिटाता है", लेकिन यह वास्तव में कैसे काम करता है? रोजाना योग का अभ्यास करने से आपके शरीर में ऊर्जा का संचार हो सकता है।

योग से स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते हैं। यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को काफी हद तक बढ़ा सकता है, आपकी दृष्टि में सुधार कर सकता है और आपको आपकी वास्तविक उम्र से कम उम्र का दिखा सकता है। योग सुंदरता को बढ़ाता है और बेहतर रक्त परिसंचरण और चयापचय का समर्थन करता है। यह गैस और एसिडिटी जैसी समस्याओं को कम करने में भी मदद करता है और दिमाग और याददाश्त को तेज करता है।

कपालभाति एक प्रभावी योग अभ्यास है। नियमित रूप से कपालभाति करने से किडनी से संबंधित बीमारियों से राहत मिलती है और समग्र ऊर्जा स्तर में वृद्धि होती है। यह आंखों के नीचे काले घेरे को भी कम कर सकता है। कपालभाति करते समय सही श्वास तकनीक का पालन करना महत्वपूर्ण है। अपनी सांसों की गति पर ध्यान दें और याद रखें कि सांस लेते समय आपका पेट बाहर की ओर फैलना चाहिए और सांस छोड़ते समय अंदर की ओर सिकुड़ना चाहिए। हालाँकि, अगर आप हर्निया, अल्सर, श्वसन रोग या उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, तो कपालभाति का अभ्यास करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना उचित है।

मोटापा कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का एक अहम कारण है। अपने वजन को नियंत्रित करके आप कई बीमारियों से बच सकते हैं। मोटापे से निपटने के लिए आप ताड़ासन, त्रिकोणासन, पादहस्तासन और पार्श्वकोणासन जैसे योग आसनों का अभ्यास कर सकते हैं।

वैसे तो मधुमेह का कोई इलाज नहीं है, लेकिन इसे दवाइयों से नियंत्रित किया जा सकता है। हालाँकि, अगर आप इस स्थिति को नियंत्रण में रखना चाहते हैं, तो योग के साथ उचित आहार का पालन करना ज़रूरी है। कपालभाति प्राणायाम, धनुरासन और चक्रासन जैसे अभ्यास मधुमेह के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन कई स्वास्थ्य समस्याओं का द्वार है। एक बार जब किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप हो जाता है, तो वह हृदय रोग के प्रति संवेदनशील हो जाता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए आप पश्चिमोत्तानासन, शवासन, प्राणायाम और अधो मुख श्वानासन जैसे योग आसनों का अभ्यास कर सकते हैं।

माइग्रेन मस्तिष्क में खराब रक्त परिसंचरण के कारण होता है, जिससे गंभीर सिरदर्द होता है। शीर्षासन (हेडस्टैंड), उष्ट्रासन, बालासन और शवासन जैसे योग आसनों का अभ्यास करने से माइग्रेन के लक्षणों से काफी राहत मिल सकती है। अस्थमा के रोगियों के लिए, योग आवश्यक है क्योंकि यह फेफड़ों में बेहतर वायु मार्ग की सुविधा प्रदान करता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई कम होती है। प्राणायाम और धनुरासन अस्थमा या अन्य श्वसन समस्याओं वाले लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद हो सकते हैं।

ONGC में निकली नौकरियां, फटाफट आवेदन कर लें ये लोग

KGMU Senior Resident Recruitment 2024 - 54 पदों के लिए आवेदन करें

ग्रेजुएट्स के लिए यहाँ मिल रहा है नौकरी पाने का मौका, 1.40 लाख तक मिलेगी सैलरी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -