पीरियड ज्यादा दिन तक आने का कारण हो सकती है ये गंभीर बीमारियां

महिलाओं में प्रत्येक माह पीरियड्स आते है। इस बात से तो आप सभी वाकिफ ही होंगे। वैसे तो बहुत सी महिलाओं को सामान्य रूप से पीरियड्स आते है लेकिन कुछ महिलाओं को अवधि पूरी होने पर भी पीरियड्स बने रहते है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसा क्यों होता है? जी दरअसल मासिक धर्म की अवधि आम तौर पर 3 से 7 दिनों की रहती है और अगर मासिक धर्म 7 दिन से ज्यादा का हो जाता है तो उसे लंबी अवधि कहते है। कजी हाँ और एक सप्ताह से अधिक समय तक बने रहने की अवधि को मेनोरेजिया कहते है। आपको बता दें कि मेनोरेजिया के कारण बहुत सी गंभीर बीमारी हो सकती है। आज हम आपको उन्ही के बारे में बताने जा रहे हैं।

दवाएं - कुछ दवाओं की वजह से पीरियड्स की लंबी अवधि होती है। जी हाँ और इन दवाओं में शामिल है - गर्भनिरोधक दवाई जैसे: अंतर्गर्भाशयी उपकरण और विस्तारित जन्म नियंत्रण की गोलियाँ, एस्पिरिन और अन्य ब्लड थिनर्स, एंटी इंफ्लामेट्रिस दवाएं शामिल है।

हार्मोन की वजह - महिलाओं को प्रत्येक माह यूट्रस में एक परत बनती है। जी हाँ और यह परत पीरियड्स में रक्त के द्वारा शरीर से बाहर निकलती है लेकिन हार्मोन का स्तर बिगड़ जाता है तो यह परत मोटी हो जाती है। इससे ज्यादा समय तक रक्तस्त्राव होता है। जी दरअसल ओव्यूलेट ना होने की वजह से भी हार्मोन असंतुलित हो जाते है जिससे भी ज्यादा समय तक पीरियड्स बने रहते है।

प्रेगनेंसी - प्लेसेंटा प्रिविया होने पर गर्भावस्था में भी रक्तस्राव होता है जो की ज्यादा भी हो सकता है। ऐसे में अगर आपने प्रेगनेंसी टेस्ट करवाया है और रिपोर्ट पॉजिटिव है। जिसके बाद भी आपको रक्तस्त्राव हो रहा है तो आपको अपने चिकित्स्क से संपर्क करना चाहिए।

यूटरस का बढ़ना -  जब यूटरस की परत में पॉलीप्स की मात्रा बढ़ने लगती है तो रक्तस्त्राव अधिक होता है तथा जब यूट्रस में फाइब्रॉएड ट्यूमर होता है तब भी ज्यादा दिनों तक रक्तस्त्राव होता है।

एडेनोमायोसिस - यह एक ऊतक निर्माण है। जी दरअसल ऐसी स्थिति तब बनती है जब आपका एंडोमेट्रियम या गर्भाशय की परत गर्भाशय की मांसपेशियों में खुद को एम्बेड कर लेती है। जी हाँ और इस वजह से मासिक धर्म लम्बी अवधि तक बना रहता है।

कैंसर से - गर्भाशय या ओवरी कैंसर होने के कारण भी ऐसा होता है।

रक्तस्राव की स्थिति - जब शरीर में रक्त को थक्का बनाने की क्षमता प्रभावित होती है, तब भी ऐसा होता है इनमें दो प्रमुख है हीमोफिलिया और वॉन विलेब्रांड रोग।

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज -  जब बैक्टीरिया प्रजनन अंगों को संक्रमित करते है तब यह बीमारी होती है। ऐसे में मासिक धर्म चक्र में बदलाव के साथ पीआईडी असामान्य योनि स्राव भी करता है।

मोटापा - इसका एक कारण मोटापा भी होता है क्योंकि वसायुक्त ऊतक शरीर में अधिक एस्ट्रोजन का उत्पादन करते है। ऐसे में यह अतिरिक्त एस्ट्रोजन मासिक धर्म की लम्बी अवधि का कारण बनते है।

थायराइड - अगर आपको थायराइड है जिसमें आपको परेशानी आ रही है तब भी अधिक समय तक पीरियड्स आने की स्थिति बनी रहती है।

एंडोमेट्रियोसिस -  यह उस समय होता है जब गर्भाशय की कोशिकाओं के छोटे टुकड़े गर्भाशय के बाहर फैलते है तो ऐसा होता है, जैसे- अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब, मूत्राशय या योनि में।

नहीं बढ़ रहा आपके बच्चे का वजन तो खिलाये ये 6 चीजें

कमजोर है आपका बच्चा तो खिलाये ये 6 चीजें, बढ़ेगा वजन और होगा ताकतवर

BP कंट्रोल में रखती है काली किशमिश, जानिए खाने के ढेरों फायदे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -