नहीं रहे प्रसिद्ध कार्टूनिस्ट नारायण देबनाथ, सीएम ममता बनर्जी ने जताया शोक

कोलकाता: कार्टूनिस्ट एवं बंगाली कॉमिक भूमिका ‘बंतुल द ग्रेट’ , ‘ हांडा-भोंदा’ तथा ‘नोंते फोंते’ के रचयिता नारायण देबनाथ का मंगलवार प्रातः कोलकाता के एक हॉस्पिटल में लंबी बीमारी के पश्चात् देहांत हो गया. हॉस्पिटल के सूत्रों ने यह खबर दी. देबनाथ को उपचार के लिए हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था तथा वह 97 साल के थे. हॉस्पिटल के अफसर ने बताया कि पद्म श्री से सम्मानित देबनाथ ने पूर्वाह्न 10 बजकर लगभग 15 मिनट पर अंतिम सांस ली. उन्हें 24 दिसंबर को प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था तथा वह जीवनरक्षक प्रणाली (वेंटिलेटर) पर थे. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके देहांत पर शोक व्यक्त किया है.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शोक व्यक्त करते हुए कहा, “अत्यंत दुख की बात है कि प्रख्यात साहित्यकार, चित्रकार, कार्टूनिस्ट तथा बच्चों की दुनिया के लिए कुछ अमर चरित्रों के निर्माता नारायण देबनाथ नहीं रहे. उन्होंने बंटुल द ग्रेट, हांडा-भोंडा, नॉनटे-फोंटे, ऐसे कार्टून बनाए थे जो दशकों से हमारे दिलों में अंकित हैं.”

साथ ही ममता बनर्जी ने लिखा, “हमें उन्हें 2013 में बंगाल के सर्वोच्च पुरस्कार बंग विभूषण से सम्मानित करते हुए गर्व हो रहा था. उनका देहांत निश्चित तौर पर साहित्यिक रचनात्मकता तथा कॉमिक्स की दुनिया के लिए एक अपूरणीय क्षति है. उनके परिवार, दोस्तों, पाठकों और अनगिनत प्रशंसकों तथा अनुयायियों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है.”

अमिताभ की 'ना' से टूट गई थी सलीम-जावेद की जोड़ी, जानिए क्या है पूरा मामला

जानिए कोरोना के इलाज में कौन सी दवाएं है असरदार और किन का नहीं करना है इस्तेमाल?

भारत का COVID-19 टीकाकरण कवरेज 158.04 करोड़ के पार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -