शुरू होने जा रहा है शादियों का सीजन, दुल्हन भूलकर भी ना करे ये गलतियां

त्योहारों का सीजन थमने के पश्चात् अब शादियों का सीजन आरम्भ होने वाला है। शादी के समय दुल्हन के लिए शॉपिंग करना सबसे कठिन काम होता है। दुल्हन के ऑउटफिट में जरा सी खराबी उसके सबसे बड़े दिन को बिगाड़ सकती है। विवाह से पहले अधिकांश लड़कियों को ब्राइडल लहंगा क्रय करने का अनुभव भी नहीं होता है। यदि आप भी बाजार से शादी के लिए लहंगा अथवा वेडिंग ड्रेस क्रय करने जा रही हैं तो 6 बड़ी गलतियां करने से बचें।

1- रिसर्च:- अपना ड्रीम वेडिंग ड्रेस क्रय करने के लिए यदि आप सीधे बाजार की ओर रुख कर रहे हैं तो आपको पछताना पड़ सकता है। ब्राइडल ड्रेस क्रय करने के लिए रिसर्च बेहद आवश्यक है। इसलिए शॉपिंग स्टोर पर जाने से पहले इंटरनेट पर लंहगे अथवा वेडिंग ड्रेस के नवीनतम डिजाइन खंगाल लें तथा उन्हें दिमाग में रखकर ही शॉपिंग के लिए आगे बढ़ें।

2- स्किन टोन:- शादी के लिए लहंगा अथवा वेडिंग ड्रेस क्रय करना बड़ा पेचीदा काम है। इसे क्रय करते समय व्यक्तियों को अपने स्किन टोन का भी ध्यान रखना चाहिए। भिन्न-भिन्न स्किन टोन पर सभी प्रकार के कलर नहीं फबते हैं, इसलिए आपको काफी सतर्कता से यह काम करना चाहिए। स्किन टोन के अनुसार खरीदी गई वेडिंग ड्रेस आपकी सुंदरता में चार चांद लगा देगी।

3- कपड़ा:- वेडिंग ड्रेस क्रय करते समय कई बार लोग इसके मैटीरियल एवं फेब्रिक पर ध्यान ही नहीं देते हैं तथा अपनी इस गलती का पछतावा उन्हें शादी के दिन होता है। ब्राइडल ड्रेस कठोर कपड़े से बनी हो सकती है अथवा उस पर भारी एम्ब्रॉयडरी भी लुक एवं कम्फर्ट जोन दोनों को बिगाड़ सकती है। इसलिए वेडिंग ड्रेस में सब समझ आने के पश्चात् एक बार उसे ट्राई करने में कोई बुराई नहीं है।

4- मौसम:- वेडिंग अथवा रिसेप्शन के लिए ड्रेस क्रय करते समय आपको सीजन का भी ध्यान रखना चाहिए। यदि आप सर्दी के दिनों में शादी करने जा रहे हैं तो डार्क शेड चुन सकते हैं, मगर गर्मियों में ऐसा करना समझदारी नहीं है। गर्मी के दिनों में आपको लाइट शेड के ड्रेस चुनने चाहिए। इसके अतिरिक्त आपको लोकेशन का भी ध्यान रखना चाहिए।

5- बॉडी की शेप:- शादी के लिए ड्रीम ड्रेस सिलेक्ट करते समय कई बार लड़कियां अपनी बॉडी की शेप का ध्यान नहीं रखती हैं। मॉडल या डमी पर सजे लहंगे को देखकर उसे क्रय करने की गलती ना करें। डमी एवं आपके बॉडी स्ट्रक्चर में जमीन-आसमान का अंतर हो सकता है। इसलिए वेडिंग ड्रेस को एक बार पहनकर अवश्य देखें। यदि आपको जरा भी कमी दिखाई दे रही है तो फैशन डिजाइनर या स्टाइलिश से कांटेक्ट करें।

6- अल्टरेशन:- वेडिंग ड्रेस घर लाने के पश्चात उसे सीधे वार्डरॉब में रखने की जगह अल्ट्रेशन के लिए भेज दें, जिससे डिजाइनर आपके फिगर के अनुसार ड्रेस को फिट कर सके। परफेक्ट फिटिंग के बिना महंगे से महंगा ड्रेस भी अच्छा नहीं नजर आता है।

हिमाचल प्रदेश में फिर खोले जाएंगे इन कक्षाओं के सभी स्कूल

लेबनान सऊदी अरब के साथ अपने सर्वश्रेष्ठ संबंधों को करना चाहता है मजबूत

गृह मंत्री अमित शाह शुक्रवार को वाराणसी में भाजपा कार्यकर्ताओं को करेंगे संबोधित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -