वेबसाईट का दावा - विमान हादसे में ही हुई थी नेताजी की मौत

Jan 21 2016 06:41 PM
वेबसाईट का दावा - विमान हादसे में ही हुई थी नेताजी की मौत

लंदन। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की रहस्यमयी मौत से पर्दा उठाने को लेकर कई बार प्रयास हुए। इस मामले में अलग - अलग दावे होते रहे लेकिन नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मृत्यु को लेकर रहस्य अभी भी बना हुआ है। इस मामले में पश्चिम बंगाल सरकार ने अपने दस्तावेज जारी किए थे तो दूसरी ओर केंद्र सरकार ने जनवरी में उनके जन्मदिवस पर कुछ दस्तावेज सार्वजनिक करने की बात कही थी। ऐसे में नेताजी सुभाषचंद्र बोस के आखिरी दिनों की जानकारी जुटाने के लिए ब्रिटेन की एक वेबसाईट ने प्रयास किए थे।

ऐसे में यह वेबसाईट कुछ जानकारी जुटा पाई है। अब इस वेबसाईट www.boselifees.info  पर जानकारियां सार्वजनिक की गईं। जिसमें यह जानकारी दी गई है कि वर्ष 1945 में विमान दुर्घटना के बाद नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मृत्यु के बाद उनकी देह का अंतिम संस्कार किया गया था। इस मामले में ताईवान के एक अधिकारी ने दावा किया और वेबसाईट को जानकारी दी थी। 

मिली जानकारी के अनुसार इस वेबसाईट की स्थापना यह सिद्ध करने के लिए हुई थी कि महान भारतीय स्वाधीनता संग्राम सेनानी की मौत विमान हादसे में हुई थी। उल्लेखनीय है कि वेबसाईट ने जो दावा किया है वही दावे पहले भी किए जाते रहे हैं लेकिन नेताजी सुभाषचंद्र बोस का परिवार उनकी मृत्यु विमान हादसे में होना नहीं मानता। 

हालांकि नेताजी की मौत को लेकर कई तरह के दावे भी हुए हैं और इन दावों को लेकर दस्तावेज भी मिले हैं। जिससे यह माना जाता है कि नेताजी विमान हादसे में मृत नहीं हुए थे। उल्लेखनीय है कि वेबसाईट ने जानकारी दी है कि आज़ाद हिंद फौज के नायक नेताजी की मृत्यु 18 अगस्त 1945 को ताइपेई में विमान हादसे में हुई थी। 

वेबसाईट में उस पुलिस रिपोर्ट को शामिल किया गया है जो ब्रिटेन के विदेश विभाग को भेजी गई ताइवान पुलिस ने लिखी थी। इसे भारत में ब्रिटिश उच्चायोग को भेजा गया था। जहां से इस रिपोर्ट को 1956 में भारत सरकार को भेजा गया। ताईवान में ब्रिटेन के महावाणिज्य दूत अल्बर्ट फ्रैंकलिन ने 15 मई 1956 को ताइवान सरकार को पत्र लिखा गया।

पत्र में बोस की मृत्यु की जांच करवाने की बात कही गई। नेताजी सुभाषचंद्र बोस का अंतिम संस्कार 22 अगस्त 1945 को किए जाने की जानकारी दी गई थी। ताइवान के स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस तरह की रिपोर्ट कही गई कि निगम के स्वास्थ्य केंद्र में अंतिम संस्कार का रजिस्टर है और स्वास्थ्य केंद्र के अधिकारियों का मानना है कि इसमें प्रविष्टि इचिरो ओकुरा के नाम से दायर की गई है।

यही नहीं यह भी बताया गया है कि नेताजी के अंतिम संस्कार वाले दिन जापान के सैन्य अधिकारी कार में भारतीय के साथ अंतिम संस्कार वाले स्थल पहुंचा माना जाता है कि इस भारतीय का नाम हबीबुर रहमान था। जो कि विमान हादसे के बाद भी जिंदा थे।