चांद-सितारे वाले झंडे पर SC ने मांगा सरकार से जवाब, रिजवी बोले इसे बैन करो

नई दिल्ली : मॉब लिंचिंग, हिन्दू-मुस्लिम विवाद के बाद अब देश में एक नए मुद्दे पर बहस तेज हो गई हैं. जिसने कि सर्वोच्च अदालत तक का दरवाजा भी खटखटाया दिया हैं. बता दे कि हरे रंग पर चांद सितारे बने झंडे को लेकर देश में विरोध धुरु हुआ है. और इससे उत्तर प्रदेश शिया सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी भी आहत हैं. उन्होंने इसे लेकर आपत्ति जताते हुए कहा है कि इस झंडे को देश में प्रतिबंधित कर देना चाहिए. 

वसीम रिजवी ने साथ ही कहा है कि इस झंडे से देश में तनाव की स्थिति पैदा होती हैं. इतना ही नहीं रिजवी ने इसे लेकर उच्चतम न्यायालय में याचिका दाखिल की थी. जिस पर आज सुनवाई भी हुई. सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायलय ने सरकार से इस संबंध में जवाब मांगा हैं. 

अदालत ने सरकार को चेताते हुए कहा है वह इस मामले को गंभीरता से लें. बता दे कि इस झंडे को साल 1906 में मुस्लिम लीग ने बनाया था ये झंडा हरे रंग पर बना सफेद चांद तारे वाला इस्लामिक झंडा नहीं है. भारत के बंटवारे के समय यह पाकिस्तान चला गया था. लेकिन देश में इसे आज भी फहराया जाता है. जिस पर अब सरकार से कड़े शब्दों में अदालत ने जवाब मांगा है. 

दाऊद, भागवत, कांग्रेस से पूछो क्या उन्होंने लगाया'मुल्क' में पैसा???

आज के राजनीतिक हालातों पर सटीक बैठता सेम पित्रोदा का बयान

पंजाब के दलित कर रहे है रावण पूजा खुद को गैर हिन्दू मानते है

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -