वो उलझ रहे है आज भी

वो उलझ रहे है आज भी

ो उलझ रहे है आज भी, जात पात पे,
कब आएंगे वो अपनी, असली ओकाद पे ?