क्या एक बार फिर से विशाखापट्टनम में हो रही गैस लीक ? जानें सच

कोरोना के कहर के बीच आंध्र प्रदेश पुलिस ने विशाखापट्टनम की एलजी पॉलिमर इंडस्ट्री में फिर से गैस रिसाव होने की खबर को गलत बताया है. पुलिस ने कहा कि मेंटेनेंस टीम सिस्टम की मरम्मत कर रही थी और इस दौरान वाष्प बाहर निकला है. एहतियात के तौर पर गैस रिसाव क्षेत्र के 2 किमी के दायरे में आने वाले इलाके को खाली करने का आदेश दिया गया है.

पाकिस्तान में पेट्रोलियम पदार्थों के दाम घटे, वहीं भारत में इससे सरकारी खजाने भरने की कवायद

इसके अलावा गैस रिसाव के बीच लोगों से गैस रिसाव के बारे में फर्जी खबरों पर विश्वास न करने का भी अनुरोध करते हुए विशाखापट्टनम के पुलिस कमिश्नर आरके मीणा ने कहा कि घबराने की बात नहीं हैं. उन्होंने कहा कि एहतियात के तौर पर घटनास्थल के 2 किलोमीटर के दायरे में आने वाले लोगों से इलाका खाली करने का अनुरोध है. 2 किमी के दायरे से बाहर के लोगों को सड़क पर आने या इलाका खाली करने की जरूरत नहीं है. वहीं, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने गुरुवार को विशाखापट्टनम  गैस रिसाव की घटना पर स्वत: संज्ञान लिया और आज इस मामले की सुनवाई करने का फैसला किया. एनजीटी के अध्यक्ष एके गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ मामले की सुनवाई करने वाले हैं.

आयुर्वेदिक दवाओं से हारेगा कोरोना ! स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुरू किया ट्रायल

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार तड़के हुए गैस लीक हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई. हादसे का कारण पता लगाने के लिए राज्य सरकार ने जांच का आदेश दिया है. इसके अलावा मृतकों के परिवार वालों को एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है. 

दुनियाभर में दिखा साल के आखिरी 'सुपरमून' का अद्भुत नज़ारा, यहाँ देखें शानदार Pics

विशाखापट्टनम, छत्तीसगढ़ और अब नासिक, 24 घंटे के अंदर देश में चौथा बड़ा हादसा

उपराष्ट्रपति से मिले स्पीकर ओम बिड़ला, कोरोना संकट में सांसदों की भूमिका पर हुई चर्चा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -