वायरल बुखार से बचने के लिए जरूरी हैं ये बातें

वायरल बुखार से बचने के लिए जरूरी हैं ये बातें

बारिश का मौसम अपने साथ कई जानलेवा बीमारियां भी साथ लेकर आता है. बारिश में कई गंभीर बीमारी हो सकती है जिसमें आपको ध्यान रखने की जरूरत होती है. बारिश के मौसम के बाद जगह-जगह पर पानी जमा होने के कारण डेंगू, चिकनगुनिया, जीका वायरस जैसी बीमारियां तो फैलती ही हैं साथ ही बदलता मौसम फ्लू, बुखार, खांसी, जुकाम भी लेकर आता है. अगर आप इन बिमारियों से बचना चाहते हैं तो जान लें उपाय. 

इस मौसम में वायरल, मलेरिया व डेंगू बुखार होते हैं. वायरस के संक्रमण से होने वाले बुखार को वायरल बुखार कहा जाता है. यह सामान्य तौर पर तीन से सात दिनों तक ते लिए होता है. इसी प्रकार मलेरिया व डेंगू की बीमारी मच्छर के कारण होती है. लक्षण मिलते ही डॉक्टर को दिखाना चाहिए. इसके अलावा वायरल बुखार से बचने के लिए हाथ को साबुन से धोएं, नाक पर रुमाल बांधकर रखे और पानी ज्यादा से ज्यादा से पीएं.  

घरेलू उपाय
वायरल होने पर शरीर में थकान का एहसास होतो है साथ ही कमजोरी महसूस होती है. तेज बुखार होने पर पैरासिटामोल जैसी दवा लें. 

बुखार के दौरान गला काफी सूखता है इसलिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए और खूब पानी पीना चाहिए. गले में खराश या जर्ज हो तो गर्म पानी में नमक डाल कर उससे गरारे करें. 

इसके अलावा दिन भर गर्म पानी पिएं और हल्दी डालकर दूध का सेवन करें. नीबू और शहद का का सेवन करें. तुलसी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जिससे शरीर के अंदर के वायरस खत्म होते हैं.

बाजरे की खिचड़ी सेहत के लिए है फायदेमंद

ये आदतें बनती हैं किडनी में पथरी का कारण

घरेलु तरीकों से बना सकते हैं अपने कमज़ोर नाखूनों को मजबूत और बड़ा