अयोध्या राम मंदिर में VIP सुविधा पर रोक ! पुजारियों के लिए भी कड़े हुए नियम

अयोध्या राम मंदिर में VIP सुविधा पर रोक ! पुजारियों के लिए भी कड़े हुए नियम
Share:

अयोध्या: अयोध्या राम मंदिर में अनुष्ठानों और प्रथाओं में एक महत्वपूर्ण बदलाव करते हुए, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने नए दिशा-निर्देश पेश किए हैं, जो पुजारियों को भक्तों के माथे पर तिलक (चंदन का लेप) लगाने और दक्षिणा के बदले चरणामृत (पवित्र जल) वितरित करने से रोकते हैं। ट्रस्ट ने कहा कि तत्काल प्रभाव से, पुजारियों को दिया जाने वाला कोई भी चढ़ावा एक निर्दिष्ट दान बॉक्स में डाला जाना चाहिए। मुख्य पंडित आचार्य सत्येंद्र दास ने इस निर्देश की पुष्टि की है, जिसका उद्देश्य मंदिर के गर्भगृह (गर्भगृह) के भीतर की प्रथाओं को सुव्यवस्थित और विनियमित करना है। पुजारियों ने इस निर्णय पर असंतोष व्यक्त किया है, फिर भी वे ट्रस्ट के आदेशों का पालन करने के लिए तैयार हैं।

22 जनवरी को मंदिर के भव्य उद्घाटन के बाद से ही मंदिर में देशभर से श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। श्रद्धालु न केवल भगवान श्री राम के दर्शन करने के लिए उत्सुक हैं, बल्कि वे करीब से पूजा-अर्चना भी करना चाहते हैं। बड़ी संख्या में आने वाले श्रद्धालुओं को नियंत्रित करने के लिए ट्रस्ट ने कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं, लेकिन कई श्रद्धालु अभी भी रामलला के करीब से दर्शन करने की इच्छा रखते हैं। आम भक्तों को राम लला के दर्शन के लिए बैरिकेड्स के भीतर कतार में खड़ा होना पड़ता है। इसके विपरीत, वीआईपी दर्शन विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को राम लला के नज़दीक से दर्शन की अनुमति है। पहले, इस नज़दीकी दर्शन के बाद, पुजारी भक्तों के माथे पर चंदन (चंदन का लेप) लगाते थे और उन्हें चरणामृत देते थे। इस प्रथा के कारण अक्सर भक्त सीधे पुजारियों को दान देते थे, जिससे उनकी नियमित तनख्वाह के अलावा उनकी आय में भी इज़ाफा होता था।

ट्रस्ट का नया निर्देश दान को केंद्रीकृत करना और यह सुनिश्चित करना है कि सभी चढ़ावे का उचित हिसाब-किताब हो। मुख्य पंडित आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि ट्रस्ट के सदस्य डॉ. अनिल मिश्रा ने पुजारियों को चंदन का लेप लगाने और चरणामृत बांटने से रोकने का निर्देश दिया है। इसके अलावा, भक्तों से मिलने वाले दान को पंडितों द्वारा रखने के बजाय दान पेटी में डाला जाना चाहिए। गर्भगृह मुख्य पंडित सहित लगभग दो दर्जन पंडितों की टीम के साथ संचालित होता है। ये पुजारी मंदिर के अनुष्ठानों और समारोहों का प्रबंधन करने के लिए शिफ्ट में काम करते हैं। ट्रस्ट मुख्य पुजारी को 35,000 रुपये का मासिक वेतन देता है, जबकि सहायक पुजारियों को 33,000 मिलते हैं। यह संरचित मुआवजा मंदिर के संचालन में शामिल सभी पुजारियों के लिए उचित पारिश्रमिक सुनिश्चित करता है।

हालांकि पुजारियों ने नए दिशा-निर्देशों पर नाखुशी जताई है, लेकिन वे ट्रस्ट के फैसले का पालन करने के लिए सहमत हैं। आचार्य सत्येंद्र दास ने इस बात पर जोर दिया कि ट्रस्ट के फैसले सामूहिक हैं और मंदिर के उचित प्रबंधन के लिए उनका पालन किया जाना चाहिए। ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्रा ने स्पष्ट किया कि चंदन का लेप लगाने और चरणामृत बांटने पर रोक लगाने का फैसला व्यक्तिगत रूप से नहीं लिया गया बल्कि ट्रस्ट द्वारा सामूहिक रूप से लिया गया फैसला था। उन्होंने व्यवस्था बनाए रखने और मंदिर में होने वाली प्रथाओं को ट्रस्ट के उद्देश्यों के अनुरूप सुनिश्चित करने के लिए दिशा-निर्देशों का पालन करने के महत्व पर जोर दिया।

चूंकि मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते रहते हैं, इसलिए मंदिर परिसर में पवित्रता और व्यवस्था बनाए रखने के लिए इन नए दिशा-निर्देशों को लागू करना आवश्यक माना जा रहा है। ट्रस्ट अयोध्या राम मंदिर की परंपराओं और मूल्यों को बनाए रखते हुए सभी आगंतुकों के लिए एक सहज और भक्तिपूर्ण अनुभव सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

योगी सरकार ने शुरू की 'एक परिवार एक पहचान' योजना, एक ID से मिलेगा केंद्र-राज्य का पूरा लाभ

असम में बाढ़ से स्थिति भयानक, अब तक 37 लोगों की मौत, लगभग 4 लाख लोग प्रभावित

जहाँ बनती हैं आग बुझाने वाली मशीनें, उसी फैक्ट्री में भड़की आग, 4 लोगों की दुखद मौत, 6 घायल

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -