हिंसक प्रदर्शन के बीच नेपाल में लागू हुआ नया संविधान

Sep 21 2015 10:40 AM
हिंसक प्रदर्शन के बीच नेपाल में लागू हुआ नया संविधान

काठमांडू : नेपाल में नया संविधान पारित हो गया और उसे धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बनाने का दर्जा भी मिल गया, लेकिन इन सभी के बीच नेपाल में अभी भी हिंसा और उपद्रव के हालात हैं। हालात ये है कि यहां लगभग 14 जिलों में कफ्र्यू लगा है दूसरी ओर दंगे से करीब 8 जिले प्रभावित हैं। संवेदनशील क्षेत्रों पुलिस की तैनाती की गई है तो दूसरी ओर कई क्षेत्रों में लोग काला दिवस मना रहे हैं। इस दौरान लोग काले रंग का पहनावा पहने हुए और सड़कों पर विरोध करते नज़र आए। बीरगंज के एक व्यक्ति की मृत्यु होने के बाद नेपाल के बिराटनगर, झापा, गौर, सप्तारी, सरलाही और जनकपुर क्षेत्र में जमकर हिंसा हुई। रविवार को नेपाल का संविधान लागू होने के बाद देश में उल्लास का वातावरण है।

नेपाल के मधेशी और थारू समुदाय के लोग नए संविधान का विरोध कर रहे हैं। इसे लेकर हिंसा हुई और एक व्यक्ति की मौत हो गई। यही नहीं इस क्षेत्र में कफ्र्यू भी घोषित कर दिया और सुरक्षाबल फ्लैग मार्च करते रहे। सारा क्षेत्र पुलिस और सैन्य छावनी बना रहा। माना जा रहा है कि नेपाल के नए संविधान से भारत सरकार भी असंतुष्ट है। इससे भारत सरकार भी नाराज है। कहा जा रहा है कि इस संविधान में भारत के हितों की अनदेखी की गई है।

कहा गया है कि नेपाल को सात राज्यों वाले धर्मनिरपेक्ष गणराज्य के तौर पर जाना जाएगा। इन राज्यों में विधानसभा होगी। संविधान में लोकतांत्रिक प्रणाली, नागरिक स्वतंत्रता, मनावाधिकार, मत देने का अधिकार, प्रेस की स्वतंत्रता, स्वतंत्र व निष्पक्ष न्यायपालिका आदि को लेकर चर्चा की जा रही है।