देवर्षि नारद 'गूगल' थे - विजय रुपाणी

गांधीनगर: त्रिपुरा के बिप्लब देब के विवादित बयान के बाद अब गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने अपने एक बयान से विवाद को जन्म दे दिया है. देवर्षि नारद जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते समय उन्होंने पौराणिक चरित्र देवर्षि नारद की तुलना सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले सर्च इंजन गूगल से कर डाली. उन्होंने कहा कि देवर्षि नारद गूगल थे, वे भी गूगल की ही तरह सभी बातें जानते थे. यह कार्यक्रम आरएसएस के मीडिया से जुड़े संगठन विश्व संवाद केंद्र ने आयोजित किया था.

रुपाणी ने कहा कि  'यह आज भी प्रासंगिक है कि नारद एक सूचनाएं रखने वाले व्यक्ति थे. वह पूरी दुनिया की जानकारी रखते थे. मानवता की भलाई के लिए सूचनाएं इकट्ठा करना उनका धर्म था और आज भी इसी की जरूरत है.'उन्होंने कहा, 'गूगल उसी तरह से सूचना का स्रोत था जैसे नारद थे. दुनिया में जो कुछ हो रहा हो, वे उसकी जानकारी रखते थे.

'लोकतंत्र में मीडिया के महत्त्व' के बारे में अपनी राय रखते हुए रुपाणी ने पीएम मोदी के बयान का हवाला देते हुए कहा कि मीडिया, सरकार के कार्यों में टिप्पणी बेशक कर सकती है, लेकिन इसके लिए यह जरुरी है कि मीडिया निष्पक्ष और विश्वसनीय हो. आपको बता दें कि इससे पहले बिप्लब देब सिविल सर्विस के विद्यार्थियों को लेकर दिए गए अपने बयान से चर्चा में आए थे. बिप्लब इससे पहले महाभारत काल में इंटरनेट और मिस वर्ल्ड में इंडियन ब्यूटी को लेकर भी विवादित बयान दे चुके हैं. 

विवादित बयानों की बारिश में देब का एक और बयान

नौकरी के लिए भटकना छोड़ गाय पाले युवा: बिप्लब देब

बुद्ध पूर्णिमा: आज जयंती समारोह में शिरकत करेंगे पीएम मोदी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -