हर संकट से लड़ने की ताकत देने के लिए अपने भाई को बांधे वैदिक राखी, जानिए बनाने की विधि

Aug 06 2019 05:20 PM
हर संकट से लड़ने की ताकत देने के लिए अपने भाई को बांधे वैदिक राखी, जानिए बनाने की विधि

राखी का त्यौहार आने में अब कुछ ही समय बचा है. ऐसे में राखी के दिन बहनों को भाइयों को वैदिक राखी बनाकर पहननी चाहिए. जी हाँ, तो ऐसे मे अगर आपको वैदिक राखी बनानी नहीं आती है तो आइए आज जानते हैं इसे बनाने की विधि.

वैदिक राखी - रक्षा बंधन का पर्व वैदिक विधि से मनाना श्रेष्ठ माना गया है और कहा जाता है इस विधि से मनाने पर भाई का जीवन सुखमय और शुभ बनता है. इसी के साथ शास्त्रों के मुताबिक़ इसके लिए पांच वस्तुओं का विशेष महत्व होता है, जिनसे रक्षासूत्र का निर्माण किया जाता है. इन पांच वस्तुओं में दूर्वा (घास), अक्षत (चावल), केसर, चन्दन और सरसों के दाने शामिल होते हैं. कहा जाता है इन 5 वस्तुओं को रेशम के कपड़े में बांध दें या सिलाई कर दें, फिर उसे कलावे में पिरो दें और इस तरह आप अपने भाई के लिए वैदिक राखी तैयार कर सकती हैं. इस वैदिक राखी को बाँधने से आपके भाई के ऊपर कभी कोई संकट नहीं आएगा.


पांच वस्तुओं का महत्त्व -

दूर्वा (घास) - कहते हैं जिस प्रकार दूर्वा का एक अंकुर बो देने पर तेजी से फैलता है और हजारों की संख्या में उग जाता है. वैसे ही रक्षा बंधन पर भी कामना की जाती है कि भाई का वंश और उसमें सदगुणों का विकास तेजी से हो. 

अक्षत (चावल) - कहा जाता है यह इस कामना से राखी में डाले जाते हैं कि परस्पर एक दूजे के प्रति श्रद्धा कभी क्षत-विक्षत ना हो सदा अक्षत रहे .

केसर - केसर की प्रकृति तेज होती है इसी कारण हम जिसे राखी बांध रहे हैं, वह तेजस्वी हो ऐसी कामना करते हैं और उनके जीवन में आध्यात्मिकता का तेज, भक्ति का तेज कभी कम ना हो.

चन्दन - कहते हैं चन्दन की प्रकृति शीतल होती है और यह सुगंध देता है. ठीक वैसे ही भाई के जीवन में शीतलता बनी रहे, कभी मानसिक तनाव ना हो.

सरसों के दाने - आपको बता दें कि सरसों की प्रकृति तीक्ष्ण होती है अर्थात इससे यह संकेत मिलता है कि समाज के दुर्गुणों को, कंटकों को समाप्त करने में हम तीक्ष्ण बनें. इसी कारण सरसो के दाने भाई की नजर उतारने और बुरी नजर से बचाने के लिए प्रयोग में लेते हैं.

इस राखी पर अपने भाई को खिलाये अपने हाथो से बनी यह स्पेशल मिठाई

कृष्ण की कलाई पर द्रोपदी ने बाँधी थी अपनी साड़ी के टुकड़े की राखी, जानिए अन्य कहानियां

इस राखी पर अपनी बहन को अपनी राशि के अनुसार दें गिफ्ट, होगा महालाभ