ये 4 दिन भूल से भी माँ तुलसी को न चढ़ाये जल

कहा जाता है तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। जी हाँ और इस वजह से तुलसी के पौधे पर जल चढ़ाने से देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और जातक पर अपनी कृपा बरसाती हैं। ऐसे में हर दिन तुलसी में जल देना चाहिए लेकिन कुछ खास दिन ऐसे भी होते हैं, जिस दिन तुलसी पर जल चढ़ाने की मनाही होती है। जी हाँ और ऐसा करने से आपको शुभ-लाभ नहीं होगा बल्कि हानि हो सकती है। जी हाँ, तो आइए जानते हैं कौन से दिन तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए।

ये 4 दिन तुलसी पर न चढ़ाएं जल- सनातन धर्म में बताया गया है कि प्रत्यके रविवार, एकादशी, चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण वाले दिन भूलकर भी तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए। जी दरअसल ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से दोष लगता है। केवल इतना ही नहीं बल्कि शाम ढलने के बाद तुलसी के पत्तों को तोड़ने की भी मनाही है।

सूखे पौधे को कर दें प्रवाहित- ऐसा माना जाता है कि घर में कभी भी सूखा हुआ तुलसी (Tulsi) का पौधा नहीं रखना चाहिए। जी हाँ और ऐसा करना अशुभ माना जाता है घर पर कई परेशानियां आती हैं। इस वजह से अगर कभी तुलसी का पौधा सूख जाए सम्मान के साथ उन्हें किसी नदी या नहर में प्रवाहित कर देना चाहिए। इसी के साथ ही उस सूखे पौधे की जगह तुलसी का नया पौधा लगाना चाहिए।

दक्षिणी दिशा में न रखें तुलसी- मान्यता है कि तुलसी (Tulsi) को कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं लगाना चाहिए। जी हाँ, क्योंकि ऐसा करने से तुलसी अशुभ फल देती है जीवन में कई विपत्तियां आ जाती हैं। केवल यही नहीं बल्कि घर में कभी भी जमीन पर तुलसी का पौधा नहीं लगाना चाहिए। जी हाँ और तुलसी का पौधा हमेशा गमले में ही लगाना चाहिए और उसे रखने के लिए उत्तर की दिशा सर्वोत्तम मानी जाती है।

गुरुवार को तुलसी पर अर्पित करें दूध- सनातन धर्म में कहा गया है कि अगर मां लक्ष्मी को प्रसन्न करना है तो रविवार को छोड़कर सप्ताह के बाकी सभी दिन शाम को तुलसी (Tulsi) पर घी का दीपक जलाएं। इसी के साथ ही गुरुवार को तुलसी के पौधे में कच्चा दूध डालें।

शुक्रवार: खुशहाली, धन और समृद्धि के लिए आज करें इन मन्त्रों का जाप

वैशाख पूर्णिमा पर राशि के अनुसार करें दान, हो जाएंगे मालामाल

17 मई से शुरू हो रहा है ज्येष्ठ मास, भूल से भी इस महीने ना खाए ये चीज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -