इन फूलो से रिश्ता ही नहीं किस्मत में भी आ सकता है बदलाव

इन फूलो से रिश्ता ही नहीं किस्मत में भी आ सकता है बदलाव

दुनिया में हर व्यक्ति किसी ना किसी रिश्ते से जुड़ा होता हैं और यह रिश्ते फूलों की तरह होते हैं जी हाँ इनको आप जितना ही संभाल कर रखेंगे। ये उतना ही खिलेंगे।वही वास्तु की मानें तो हर मनुष्य का जन्म माह ​के किसी खास फूल से जुड़ा होता हैं यदि आप किसी अपने को उसके जन्मदिन पर उसके जन्म माह के मुताबिक फूल देते हैं,तो आपका रिश्ता उस व्यक्ति के साथ और भी ज्यादा गहरा होता हैं साथ ही ये फल उसके भाग्य को भी चमका सकते हैं तो आज हम आपको वास्तु अनुसार बताने जा रहे हैं किस व्यक्ति के लिए कौन सा फूल लकी होता हैं तो आइए जानते हैं।
 
जनवरी में जन्म लेने वाले किसी अपने को यदि आप कारनेशन एंड स्नोड्रॉप के फूल देते हैं तो आपके रिश्ते और भी ज्यादा गहरे हो जायेंगे। वास्तु की माने तो गुलाबी और सफेद रंग के ये फूल इनके लिए लकी होते हैं। फरवरी में जन्म लेने वालों के लिए वायलेट और प्राइमरोज़ बहुत ही शुभ होते हैं यह आपकी खुशियों को दोगुना कर सकते हैं। वास्तु मुताबिक से पुष्प सेहत के लि भी बेहतर होते हैं। मार्च में जन्मे लोगो को डैफोडिल एंड जोन्किल का फूल देने बहुत ही शुभ होता हैं यह दोस्ती को गहरा कर देता हैं।
 
इसके अलावा अप्रैल में जन्म लेने वाले लोगो डेजी एंड स्वीट पी के फूल आपके रिश्तों में वफादारी और प्यार को भरता हैं। मई में जन्मे लोगो के लिए लिली आफ द वैली एंड हॉथॉर्न शुभ होता हैं। ये स्वीटनेस और रिश्तों में खोई हुई खुशियों को वापिस कर देता हैं। जून में जन्मे लोगो को गुलाब और हनीसकल का फूल देना शुभ होता हैं। जुलाई में जन्मे लोगो को लार्कसपुर एंड वॉटर लिली देना बेहतर माना जाता हैं। इसके अलावा अगस्त में पैदा हुए लोगो को ग्लैडियोलस और पोपी का फूल शुभ होता हैं यह धन और तरक्की लेकर आता हैं सितंबर में जन्म लेने वाले लोग एस्टर और मॉर्निंग ग्लोरी का फूल प्यार का रिश्ते को मजबूत करता हैं। अक्टूबर में आए लोगो को मैरीगोल्ड और कोस्मोस देना शुभ होता हैं। नवंबर में पैदा हुए लोगो को गुलदाउदी का फूल देना अच्छा होता हैं। दिसंबर में जन्म लेने वाले लोगो को गुलाब का फूल देना बहुत ही शुभ माना जाता हैं।

माघ मास के ठीक मध्य में अमावस्या के दिन होता है विशेष महत्व, कई दोषों का भी होता है निवारण

जानिये वसंत पंचमी पर माँ सरस्वती की पूजा की विधि और शुभ मुहूर्त

आज है कालाष्टमी, इस पूजा विधि और मंत्र से करें काल भैरव को खुश